NationalWorld

अमेरिकी राष्‍ट्रपति ट्रंप के बयान को भारत ने किया खारिज, कहा- चीन के साथ सीमा विवाद पर कब हुई बात

विज्ञापन

New Delhi: भारत-चीन सीमा पर तनाव को लेकर अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप ने एक बयान जारी किया था. जिसमें उन्होंने कहा था कि भारत के प्रधानमंत्री मोदी सीमा तनाव को लेकर अच्छे मूड में नहीं हैं. इसे लेकर उन्होंने मोदी से बात की है.

लेकिन उनके इस ताजा बयान को भारत ने खारिज किया है. सरकार के सूत्रों ने शुक्रवार को कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के बीच हाल में कोई बातचीत नहीं हुई है.

ट्रंप-मोदी के बीच आखिरी बातचीत चार अप्रैल को

एक सूत्र ने कहा कि मोदी और ट्रंप के बीच आखिरी बातचीत चार अप्रैल को हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन के विषय पर हुई थी. विदेश मंत्रालय ने गुरुवार को स्पष्ट कर दिया था कि भारत इस विवाद को हल करने के लिए स्थापित तंत्र और राजनयिक संपर्कों के माध्यम से सीधे तौर पर चीन से बातचीत कर रहा है.

यह स्पष्टीकरण तब आया है जब ट्रंप ने वाशिंगटन में कहा कि उन्होंने पूर्वी लद्दाख में चीन के साथ चल रहे भारत के सीमा विवाद को लेकर मोदी से बात की है. ट्रंप ने मंगलवार को भारत और चीन के बीच सीमा विवाद को हल करने के लिए मध्यस्थता की पेशकश की थी.

क्या कहा था ट्रंप ने

भारत और चीन के बीच सीमा विवाद पर मध्यस्थता करने की पेशकश दोहराते हुए अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से बात की है.

उन्होंने कहा कि पीएम सीमा विवाद को लेकर  ‘‘अच्छे मूड’’ में नहीं हैं. व्हाइट हाउस के ओवल कार्यालय में गुरुवार को पत्रकारों से बातचीत में ट्रंप ने कहा कि भारत और चीन के बीच एक ‘‘बड़ा टकराव’’ चल रहा है.

उन्होंने कहा कि भारत में मुझे पसंद किया जाता है. मुझे लगता है कि इस देश में मीडिया मुझे जितना पसंद करता है उससे कहीं अधिक पसंद मुझे भारत में किया जाता है और मैं मोदी को पसंद करता हूं. मैं आपके प्रधानमंत्री को बहुत पसंद करता हूं. वह बहुत ही सज्जन व्यक्ति हैं.

दोनों देशों को ट्रंप की ओर से ऐसी किसी मदद की जरूरत नहीं: चीनी अखबार

पूर्वी लद्दाख सीमा पर भारत और चीन के बीच गतिरोध जारी रहने के बीच भारत ने गुरुवार को कहा कि सीमा पर तनाव कम करने के लिये चीनी पक्ष के साथ बातचीत चल रही है. भारत की इस सधी हुई प्रतिक्रिया को इस मुद्दे पर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की मध्यस्थता की पेशकश को एक तरह से अस्वीकार करने के रूप में देखा जा रहा है.

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने आनलाइन माध्यम से पूछे गये सवालों के जवाब में कहा कि हम इसके शांतिपूर्ण ढंग से समाधान के लिए चीनी पक्ष के साथ बात कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि दोनों पक्षों ने सीमावर्ती क्षेत्रों में उत्पन्न हो सकने वाली स्थितियों का वार्ता के जरिए शांतिपूर्ण समाधान करने के लिए सैन्य और राजनयिक स्तरों पर तंत्र स्थापित किये हैं और इन माध्यमों से चर्चा जारी रहती है.

बहरहाल चीन के विदेश मंत्रालय ने ट्रंप के ट्वीट पर अभी कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है. चीन के सरकारी ग्लोबल टाइम्स अखबार ने एक संपादकीय में कहा कि दोनों देशों को अमेरिकी राष्ट्रपति की ओर से ऐसी किसी मदद की आवश्यकता नहीं है.

इसमें कहा गया है कि यह हालिया विवाद चीन और भारत द्विपक्षीय रूप से हल कर सकते हैं. दोनों देशों को अमेरिका को लेकर सतर्क रहना चाहिए जो क्षेत्रीय शांति और व्यवस्था को खतरे में डालने के लिए हर मौके का फायदा उठाता है.

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
Close