National

भारत और मालावी के बीच तीन समझौते, 18 जल परियोजनाओं के लिए कर्ज देगा भारत

Lilongwe : उप-राष्ट्रपति एम. वेंकैया नायडू ने सोमवार को मालावी के राष्ट्रपति आर्थर पीटर मुथरिका से विभिन्न मुद्दों पर बातचीत की. इस मौके पर भारत और मालावी ने प्रत्यर्पण, परमाणु ऊर्जा में सहयोग और राजनयिकों एवं अधिकारियों के लिए वीजा में छूट संबंधी तीन समझौतों पर दस्तखत किए. इसके अलावा, भारत ने मालावी में 18 जल परियोजनाओं के लिए 21 करोड़ डॉलर से अधिक (215.16 मिलियन) का कर्ज देने की घोषणा की.

विदेश मंत्रालय में सचिव टी एस तिरुमूर्ति ने बताया कि दोनों नेताओं की वार्ता के दौरान भारत ने मालावी के रक्षा बलों के लिए विशेषीकृत प्रशिक्षण कार्यक्रमों की पेशकश की.

इसे भी पढ़ें : रेलवे टिकट के अवैध कारोबार का भंडाफोड़, 86 लाख रुपये के 4000 से ज्‍यादा ई-टिकट बरामद

परमाणु ऊर्जा में सहयोग

उन्होंने कहा कि ग्लोबल सेंटर फॉर न्यूक्लियर एनर्जी पार्टनरशिप और मालावी के प्राकृतिक संसाधन, ऊर्जा एवं खनन मंत्रालय के बीच शांतिपूर्ण उद्देश्य के लिए परमाणु ऊर्जा में सहयोग संबंधी एक समझौते पर दस्तखत हुए.

इसे भी पढ़ें : आज भी भारत सोने की लंका है, 21 हजार टन सोने की मालकिन हैं महिलाएं

दोनों पक्षों ने प्रत्यर्पण संधि के लिए भी एक समझौते पर दस्तखत किए. इसके अलावा, राजनयिकों एवं आधिकारिक पासपोर्ट धारकों के लिए वीजा छूट संबंधी भी एक समझौता हुआ.

इसे भी पढ़ें : राम मंदिर निर्माण को लेकर संत सत्यमित्रानंद छह दिसंबर से अनशन करेंगे

जयपुर फुट शिविर का उद्घाटन

इस बीच, नायडू ने यहां जयपुर फुट के एक शिविर का उद्घाटन किया और कई लाभार्थियों को भारत में बने ‘प्रोस्थेटिक लिंब’ (कृत्रिम पैर) बांटे.

‘इंडिया फॉर ह्यूमैनिटी’ कार्यक्रम के तहत इस शिविर का आयोजन किया गया. यह कार्यक्रम महात्मा गांधी की ओर से की गई मानवता की सेवा का सम्मान करता है.

Advertisement

Related Articles

Back to top button
Close