न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पिछले कुछ सालों में भारत दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन गया हैः जयंत सिन्हा

आइआइएम रांची का आठवां दीक्षांत समारोह संपन्न, 268 विद्यार्थियों को दी गयी उपाधि

227

Ranchi: भारतीय प्रबंधन संस्थान (आइआइएम) रांची का आठवां दीक्षांत समारोह शनिवार को डॉ रामदयाल मुंडा सभागार में आयोजित किया गया. दीक्षांत समारोह में प्रबंधन के छात्रों के अलावा आठ छात्रों को मानद उपाधि प्रदान की गयी. स्नातकोत्तर स्तर के एमबीए कोर्स में 179, स्नातकोत्तर स्तर के मानव संसाधन प्रबंधन कोर्स में 62 और कार्यकारी एग्जिक्यूटिव्स के लिए स्नातकोत्तर कार्यक्रम में 27 डिग्रियां दी गयीं.

इसे भी पढ़ें – पलामू: भाजपा नेता कमलेश सिंह गिरफ्तार, भेजे गये जेल

सबसे तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्था है भारत की

मुख्य अतिथि केंद्रीय नागरिक उड्डयन राज्य मंत्री जयंत सिन्हा ने मौके पर कहा कि भारत की अर्थव्यवस्था विश्व में तेजी से बढ़ती हुई अर्थव्यवस्था है. पिछले कुछ सालों में भारत दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन गया है. खास कर सकल घरेलू उत्पाद और मुद्रास्फिति की दर में बढ़ोत्तरी नहीं होने से यह स्थान भारत को हासिल हुआ है. उन्होंने कहा कि भारत सात फीसदी की विकास दर से आगे बढ़ रहा है, क्योंकि मुद्रास्फिति की दर तीन से चार फीसदी के बीच सीमित है. उन्होंने कहा कि कुल सकल घरेलू उत्पाद की तुलना में हमारा कर्ज 150 फीसदी है, जो चीन, जापान और अमेरिका की तुलना में कम है. उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ने ढांचागत सुधार लाकर अर्थव्यवस्था को मजबूत करने का काम किया है और उत्पादकता बढ़ाने की दिशा में कई ठोस कदम उठाये हैं. आर्थिक सुधारों में जीएसटी और अन्य में एकरूपता भी लायी गयी है.

इसे भी पढ़ें – मुस्लिम समाजः आतंकवाद से सबसे ज्यादा नुकसान मुस्लिम समाज को ही हुआ है

टेलीकॉम के क्षेत्र में हो रहा है व्यापक बदलाव

उन्होंने कहा कि देश भर में टेलीकॉम के क्षेत्र में व्यापक बदलाव हो रहा है. उनके अनुसार जब उन्होंने नागरिक विमानन मंत्रालय का जिम्मा संभाला था, उस समय देश भर में 70 एयरपोर्ट थे. आज इनकी संख्या एक सौ से अधिक हो गयी है. प्रत्येक वर्ष पांच से दस नये एयरपोर्ट खुल रहे हैं. रांची में अब 32 फ्लाइट रोजाना उड़ान भर रही है. यह परिवर्तन के संकेत हैं. इससे पहले संस्थान के निदेशक डॉ शैलेंद्र सिंह ने सभी का स्वागत किया और 2017-19 की उपलब्धियों पर प्रकाश डाला. उन्होंने कहा कि जल्द ही संस्थान का नया परिसर होगा.

इसे भी पढ़ें – भारत ने पाक से दो टूक कहा- आतंकवाद के खिलाफ गंभीर हैं तो दाऊद और सलाहुद्दीन को सौंपें

इन्हें मिला चेयरमैन मेडल

एमबीए

तरुण चौधरी (चेयरमेन मेडल) पहला पुरस्कार

अंक्त मारडा (चेयरमेन मेडल) दूसरा पुरस्कार

आयुषी अग्रवाल (चेयरमेन मेडल) तीसरा पुरस्कार

बुक प्राइज-वैद्य वीनित, दीपक वर्मा

पीजीएचआरएम

एमवीएस सुधीर (चेयरमेन मेडल) पहला पुरस्कार

जॉय कुंडू (चेयरमेन मेडल) दूसरा पुरस्कार

साक्षी गुप्ता (चेयरमेन मेडल) तीसरा पुरस्कार

बुक प्राइज-विशाक भारद्वाज पी, ऐश्वर्या श्रीनिवासन

पीजीएग्जीक्युटिव प्रोग्राम

सूजीत कुमार (चेयरमेन मेडल) पहला पुरस्कार

अजीत कुमार पात्रा (चेयरमेन मेडल) दूसरा पुरस्कार

अराधना सुमन (चेयरमेन मेडल) तीसरा पुरस्कार

बुक प्राइज-नवीन कुमार, अखिलेश कुमार ठाकुर

इसे भी पढ़ें – लोहरदगाः ACB ने मत्स्य पदाधिकारी को 2800 रुपये घूस लेते हुए रंगे हाथ किया गिरफ्तार

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: