न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पाकिस्तान में 40 हजार आतंकियों की मौजूदगी वाले इमरान के बयान पर भारत ने कार्रवाई की मांग की

528

New Delhi: पाकिस्तान में 30 से 40 हजार आतंकियों की मौजूदगी को लेकर प्रधानमंत्री इमरान खान के बयान पर भारत ने कार्रवाई की मांग की है.

भारत ने गुरुवार को पाक पीएम इमरान खान के बयान को स्पष्ट कबुलनामा बताया और कहा कि यह वक्त है कि इस्लामाबाद आतंकवादियों के खिलाफ भरोसेमंद और निरंतर कार्रवाई करे.

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा कि यह पहली बार नहीं है कि पाकिस्तान और उसके नेतृत्व ने देश में आतंकियों की मौजूदगी की बात कबूली हो, जिन्हें कि हमले के लिए भारत भेजा जाता है.

इसे भी पढ़ेंःझारखंड : सात IAS अधिकारियों का तबादला, अनय मित्तल बने रांची के उप विकास आयुक्त

आतंकियों पर कार्रवाई करे पाकिस्तान

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने संवाददाताओं से कहा, ‘पाकिस्तानी नेतृत्व का यह स्पष्ट कबुलनामा है. और यह पहली बार नहीं है, जब पाकिस्तान और पाकिस्तानी नेतृत्व ने पाकिस्तान में आतंकी प्रशिक्षण केंद्र और आतंकियों की मौजूदगी की बात मानी हो. लोगों को भी पता है और अंतरराष्ट्रीय समुदाय भी यह जानता है.’

उन्होंने कहा कि चूंकि खान ने माना है कि उनके देश में आतंकी प्रशिक्षण शिविरों की मौजूदगी है, इसलिए यह वक्त है कि पाकिस्तान विश्वसनीय और निरंतर कार्रवाई करे.’

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा, ‘उन्हें सुनिश्चित करना चाहिए कि पाकिस्तान में सुरक्षित पनाहगाहों को खत्म किया जाए. हमारा मानना है कि अंतरराष्ट्रीय समुदाय को खुश करने के लिए महज आधे-अधूरे कदमों से कुछ नहीं होगा.’

इमरान खान ने पाकिस्तान में आतंकियों की मौजूदगी को स्वीकारा था

गौरतलब है कि अमेरिका के तीन दिवसीय दौरे के दौरान पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने स्वीकार किया था कि पाकिस्तान में लगभग 30 से 40 हजार हथियारबंद लोग हैं.

Related Posts

#HowdyModi : पीएम मोदी के अबकी बार ट्रंप सरकार…नारे पर कांग्रेस बिफरी, कहा, यह  विदेश नीति का उल्लंघन

आनंद शर्मा ने ट्वीट कर कहा, माननीय प्रधानमंत्री आपने किसी दूसरे देश के घेरलू चुनावों में दखल नहीं देने की लंबे समय से चले आ रहे भारत की विदेश नीति का उल्लंघन किया है

इसे भी पढ़ेंःहेमंत सोरेन का आरोप : जिस विभाग के मंत्री हैं CM रघुवर दास, उस JBVNL के एमडी राहुल पुरवार कर रहे हैं भ्रष्टाचार

जिन्हें अफगानिस्तान या कश्मीर के किसी हिस्से में प्रशिक्षण मिला है और जिन्होंने वहां लड़ाई लड़ी है. उन्होंने आरोप लगाया कि पिछली सरकारों ने देश में सक्रिय आतंकी समूहों के बारे में अमेरिका को सच नहीं बताया.

खान ने कहा था, ‘हम पहली सरकार हैं जिसने आतंकी समूहों को निरस्त्र करना शुरू किया है. यह पहली बार हो रहा है. हमने उनके संस्थानों और मदरसों का नियंत्रण अपने हाथों में ले लिया है. हमने वहां प्रशासक नियुक्त किए हैं.’

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री ने कहा था, ‘पाकिस्तान में 40 अलग-अलग आतंकवादी समूह सक्रिय थे. पाकिस्तान ऐसे दौर से गुजरा है जहां हमारे जैसे लोग चिंतित थे कि क्या हम (पाकिस्तान) इससे सुरक्षित निकल पाएंगे. इसलिए जब अमेरिका हमसे और करने तथा अमेरिका की लड़ाई को जीतने में हमारी मदद की आशा कर रहा था, उसी वक्त पाकिस्तान अपना अस्तित्व बचाने के लिए लड़ रहा था.’

भारत और अफगानिस्तान, पाकिस्तान पर अफगान तालिबान, हक्कानी नेटवर्क, जैश-ए-मोहम्मद, लश्करे तैयबा और अन्य आतंकी समूहों को सुरक्षित पनाहगाह मुहैया कराने के आरोप लगाते हैं.

भारत आतंकवाद के मुद्दे पर पाकिस्तान पर दबाव बढ़ाने के लिए लगातार कूटनीतिक प्रयास कर रहा है.

इसे भी पढ़ेंःJBVNL में हुए 15 करोड़ के TDS घोटालेबाज को बचाने में फंसे डिप्टी एकाउंटेंट जनरल

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like

you're currently offline

%d bloggers like this: