NationalWorld

 लद्दाख में तनाव के बीच भारत-चीन की बैठक, फौजों को पूरी तरह पीछे हटाने पर सहमति

विज्ञापन

New Delhi: पूर्वी लद्दाख में सीमा पर भारत और चीन के सैनिकों के बीच जारी तनाव के बीच भारत और चीन के अधिकारियों के बीच फिर से वार्ता हुई है.

वर्किंग मैकेनिजम फॉर कंसल्टेशन एंड कॉर्डिनेशन ऑन इंडिया-चीन बॉर्डर के तहत होने वाली इस बैठक के बाद जारी बयान में कहा गया है कि दोनों पक्षों ने सीमा पर मौजूदा हालात पर गहराई से विचार किया और यह प्रतिबद्धता जतायी कि वास्तविक नियंत्रण रेखा पर फौजों की पूरी तरह वापसी के लिए दोनों देश गंभीरता से काम करते रहेंगे.

दोनों देश इस बैठक में राजी हुए कि एलएसी पर फौजों के जमावड़े को ख़त्म करने के लिये सैन्य एवं कूटनीतिक दोनों स्तरों पर आपसी संवाद आगे भी बनाये रखेंगे. हालांकि, अभी तक चीन न तो देपसांग से और न ही पैंगोंग झील से अपने सैनिकों को पीछे हटाने के लिए तैयार हुआ है.

advt

इसे भी पढ़ें – जो सुप्रीम कोर्ट खुद की रक्षा नहीं कर सकता, वह हमारी रक्षा कैसे करेगा? खोखला हो चुका है न्याय तंत्रः अरुण शौरी

अप्रैल से पहले वाली जगह पर जायें चीनी सैनिक : भारत

भारत का स्पष्ट कहना है चीनी सैनिक अप्रैल 2020 से पहले वाली जगह पर चले जायें. वास्तविक नियंत्रण रेखा पर मई से हुए तनाव को घटाने के लिये यह चौथी बैठक थी. पिछली बैठक 24 जुलाई को हुई थी.

पांच दफा कोर कमांडर लेवल बातचीत हो चुकी है. इसके बावजूद दोनों देशों के सैनिकों के बीच गतिरोध बरकरार है. ठंड बढ़ने से दोनों देशों के सैनिकों को भारी दिक्कत का सामना करना पड़ सकता है लेकिन कोई भी पीछे हटने को तैयार नहीं है.

इसे भी पढ़ें –एसबीआइ के अर्थशास्त्रियों का अनुमान- भारत के हर व्यक्ति को 27-40 हजार रुपये का नुकसान

adv

‘स्पष्ट और गहन बातचीत’

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने साप्ताहिक प्रेस ब्रीफिंग में कहा कि वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर बनी मौजूदा स्थिति को लेकर दोनों पक्षों के बीच ‘‘स्पष्ट और गहन बातचीत हुई.” दोनों पक्षों के बीच सीमा मामलों पर परामर्श एवं सहयोग संबंधी कार्यकारी तंत्र (डब्ल्यूएमसीसी) के तहत डिजिटल माध्यम से वार्ता हुई. प्रवक्ता ने कहा कि दोनों पक्षों ने यह स्वीकार किया कि सीमावर्ती क्षेत्रों में शांति की बहाली संबंधों के समग्र विकास के लिए आवश्यक है.

इसे भी पढ़ें –स्वच्छता सर्वेक्षण 2020 रैंकिंग में देश का बेस्ट परफॉर्मिंग स्टेट बना झारखंड

advt
Advertisement

6 Comments

  1. Very good article! We are linking to this particularly great content on our site. Keep up the great writing.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button