Uncategorized

IND v/s AUS टी ट्वेंटी : जेएसीएस स्टेडियम के बाहर खुली ब्लैकियों की दुकान (देखिये स्टिंग कैसे नाबालिग बच्चे बेच रहे टिकट)

News Wing

Ranchi, 05 October: जेएससीए स्टेडियम में 7 अक्टूबर को होने वाले भारत-आस्ट्रेलिया टी ट्वेंटी मैच को क्रिकेट के कई दीवाने नहीं देख पायेंगे, क्योंकि उन्हें घंटों लाइन में लगने के बाद भी टिकट नहीं मिला. पर्याप्त संख्या में मैच के टिकट थे, लेकिन वे महज दो दिन में इसलिए खत्म हो गये क्योंकि कम रेट वाले टिकट ब्लैक करने वालों ने एक साथ 20-25 टिकट खरीद लिये. अब क्रिकेट के दीवाने टिकट के लिए उन ब्लैकियों से मिन्नत कर रहे हैं. एक क्रिकेट प्रेमी ने स्टिंग कर यह पता लगाया है कि कौन सी टिकट कितने में ब्लैक में मिल रही है और कौन लोग ब्लैक में टिकट बेच रहे हैं. उन्होंने पूरी स्टिंग न्यूजविंग को उपलब्ध कराया है. स्टिंग में सबसे हैरान करने वाली बात यह सामने आयी कि धुर्वा और आसपास रहने वाले नाबालिग बच्चे टिकट ब्लैक करने के खेल में शामिल हैं. स्कूलों में पढ़ने वाले यह छात्र टिकटों को टिकट की असली कीमत से 1000 से 1500 रुपये ज्यादा लेकर ब्लैक कर रहे हैं. ब्लैक की टिकट खरीदने-बेचने में हुए बार्गेनिंग की पूरी स्टिंग(वीडियो) न्यूजविंग पर मौजूद है.

advt

बारगेनिंग कर कोई फायदा नहीं, फिक्स कर रखी है रेट

कम दाम के टिकट 900, 1000, 1200, 1300 और 1500 के टिकट पहले दिन काउंटर खुलते ही बिक गये. स्थानीय लड़कों ने तड़के लाइन में खड़े होकर काउंटर खुलते ही सभी टिकट खरीद लिये और अब उसे ब्लैक में बेच रहे हैं. न्यूजविंग को उपलब्ध कराये गये वीडियो में क्रिकेट प्रेमी ने टिकटों को खरीदने के बहाने ब्लैकियों से बात की और पूरी बातचीत को कैमरे में कैद किया. टिकट ब्लैक करने वाले बच्चों ने सभी टिकटों के ब्लैक रेट फिक्स कर रखे हैं. वे अपनी तय कीमत से कम पर टिकट देने को तैयार ही नहीं रहे थे. पेश है ब्लैकियों से बातचीत का कुछ अंश.

क्रिकेट प्रेमीः भाई दो टिकट लेंगे, दो काफी है, 1100 या 900 रुपये का कोई टिकट मिल जाये तो चलेगा

ब्लैकरः सब टिकट बिक गया है, 2000 रुपये वाला टिकट 3000 रुपये में मिलेगा, खाना-पीना सब रहेगा उसमें

क्रिकेट प्रेमीः 2000 वाले का 3000 ज्यादा है भाई, 2500 रुपये ले लो

ब्लैकरः दाम ज्यादा नहीं है तुरंत बिक जा रहा है अंकल, 40-45 टिकट था सब बिक गया, पूरा बंडल बिक गया. अच्छा हिल का टिकट जितना चाहिए ले लीजिए. 1100 रुपये वाला टिकट में थोड़ा टाइम लगेगा. करीब एक घंटा रुकना पड़ेगा.

क्रिकेट प्रेमीः अच्छा 3 हजार में 1300 रुपया वाला दो टिकट दे दो

ब्लैकरः 1300 वाला दो ठो 3 हजार में आप ही दिलवा दीजिए, हम ले लेंगे

क्रिकेट प्रेमीः अच्छा 3500 रुपया ले लो और 2 टिकट दे दो

ब्लैकरः नहीं चार हजार ही लगेगा, डबल से भी कम रेट में दे रहे हैं फिर भी आपको दिक्कत हो रहा है

क्रिकेट प्रेमीः फोन पर(3500 रुपये दे रहे हैं फिर भी टिकट नहीं दे रहा है)

ब्लैकरः कम नहीं होगा अंकल बहस करके कोई फायदा नहीं है

मुहमांगा दाम देकर क्रिकेट प्रेमी खरीद रहे टिकट

टिकट ब्लैक करने वाले लड़के किसी भी हालत में टिकट का दाम करने को तैयार नहीं थे. कई क्रिकेटप्रेमियों ने इन लड़कों से उन्हें मुंहमांगा दाम देकर टिकट खरीदा. अभी भी ब्लैक में टिकट की बिक्री जारी है. सबकुछ जान कर भी जेएससीए और प्रशासन चुप है. क्रिकेट प्रेमियों का आरोप है कि टिकट काउंटर पर बैठे लोगों की मिलीभगत से टिकटों को ब्लैकरों को बेचा गया है. उनका कहना है कि 900 और 1000 रुपए के टिकट पहले दिन कुछ समय में ही खत्म हो गए, वहीं दूसरे सत्र में ढाई हजार रुपए के टिकट भी खत्म हो चुके थे. दूसरे दिन भी यही हाल था. कम दाम वाले टिकट खत्म हो गये. तीसरे दिन तो टिकट की बिक्री ही नहीं हुई. जेएससीए ने कह दिया कि सारे टिकट खत्म हो चुके हैं. क्रिकेटप्रेमियों ने कहा कि जेएससीए की अव्यवस्था के कारण वे झारखंड में मैच नहीं देख पायेंगे और इसका उन्हें हमेशा मलाल रहेगा.

क्रिकेट प्रेमियों चेहरे पर खुशी लाने के लिए क्या कुछ करेगा जेएससीए

जेएससीए ने बुधवार को घोषणा की है कि सभी केटेगरी के टिकट बिक चुके हैं. गौरतलब है कि जेएससीए स्टेडियम की कैपेसिटी 40,000 है. सवाल यह उठ रहा है कि आखिर दो दिन में कैसे इतने सारे टिकट बिक. जो लोग घंटों लाइन में लगे रहे उन्हें भी टिकट नहीं मिल पाया और उधर जेएससीए स्टेडियम के आसपास ब्लैकियों ने अपने दुकान खोल लिये. हालांकि इस दौरान पुलिस ने महिलाओं के काउंटर के बाहर सिर्फ एक महिला को छह से अधिक टिकट के साथ पकड़ा और उसे चेतावनी देने के बाद वहां से जाने दिया, जबकि कई लोगों ने 10-10 टिकट खरीद लिये. दो दिन में ही पूरे टिकट बिक जाने से क्रिकेट प्रेमियों में काफी निराशा है. अभी भी मैच में 2 दिन बचे हैं. देखना यह है कि निराश क्रिकेट प्रेमियों के चेहरे पर खुशी लाने के लिए जेएससीए कोई कदम उठाता है या नहीं.

 

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: