NationalTODAY'S NW TOP NEWS

MP के सीएम कमलनाथ के विश्वासी OSD के घर पर आयकर का छापा, आय से अधिक संपत्ति का मामला

Bhopal : लोकसभा चुनाव के मद्देनजर पुलिस बहुत सख्ती से चेकिंग अभियान चला रही है साथ ही आयकर विभाग भी अपनी पैनी नजर नेता से लेकर आम लोगों तक पर बनाये हुए है.

इसी क्रम में तड़के 3 बजे मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ के ओएसडी के आवास पर आयकर विभाग ने छापा मारा. इस छापेमारी के बारे में लोगों को तब पता चला जब सुबह के वक्त कमलनाथ के ओएसडी प्रवीण कक्कड़ के इंदौर स्थित आवास के बाहर अधिकारियों की अच्छी भीड़ दिखी. छापेमारी में कक्कड़ के इंदौर आवास पर करीब 15 की संख्या में अधिकारी सर्चिंग में लगे हुए थे.

इसे भी पढ़ें – राज्य के उग्रवाद प्रभावित जिलों में सौर ऊर्जा पर आधारित 602 मिनी वाटर सप्लाई स्कीम चालू होंगी

हाल में कक्कड़ बने थे OSD

दरअसल प्रवीण कक्कड़ पर आय से ज्यादा संपत्त‍ि का मामला बताया जा रहा है. छापेमारी फिलहाल अभी भी जारी है. कमलनाथ के ओएसडी प्रवीण कक्कड़ के आवास पर रविवार की रात करीब 3 बजे आयकर छापेमारी शुरू की. कमलनाथ के एमपी के सीएम बनते ही भूपेंद्र गुप्ता को ओएसडी बनाया गया था. लेकिन हाल में भूपेंद्र गुप्ता को हटाकर प्रवीण कक्कड़ को नया ओएसडी बनाया गया.

इससे पहले कक्कड़ मध्यप्रदेश पुलिस में अधिकारी के पर थे और कुछ साल पहले कक्कड़ ने वीआरएस ले लिया था. कक्कड़ को झाबुआ के सांसद और पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष  कांतिलाल भूरिया का बहुत करीबी माना जाता है.

प्रवीण कक्कड़ को उनकी सराहनीय सेवाओं के लिए राष्ट्रपति पदक से सम्मानित भी किया जा चुका है. पूर्व पुलिस अधिकारी रहे कक्कड़ को उनकी कार्यकुशलता के लिए भी जाना जाता है.

कक्कड़ ने भारत सरकार में 2004- 2011 तक केंद्रीय कैबिनेट मंत्री के विशेष कर्तव्यस्थ अधिकारी के रूप में भी काम किया है.

एमपी के सीएम कमलनाथ के ओएसडी प्रवीण कक्कड़ अपने बेहतर कार्यशैली से उनके विश्वासपात्र भी हैं. कमलनाथ ने कक्कड़ को स्वेच्छा अनुदान राशि आवेदनों का निराकरण का काम भी उन्हें सौंपा है.

वहीं मुख्यमंत्री कार्यालय को मंत्रियों, कांग्रेस कार्यालयों, दोनों दलों के सांसदों, विधायकों के द्वारा  सिफारिश किए और अन्य स्तर पर जो उपचार खर्च राशि की स्वीकृति वाले आवेदन आते हैं. वो सभी आवेदन जांच के बाद मंजूरी के लिए कक्कड़ के पास ही भेजे जाते हैं.

इसे भी पढ़ें – तेजस्वी को पिता लालू प्रसाद से नहीं मिलने नहीं दिया गया

 

 

Telegram
Advertisement

Related Articles

Back to top button
Close