National

आयकर विभाग ने शराब कंपनी के 55 ठिकानों पर छापा मारा, 700 करोड़ की अघोषित आय का पता चला 

NewDelhi : इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने बीयर और विदेशी शराब बनाने वाली कंपनी के ठिकानों पर छापा मारा है. इस छापेमारी में आयकर विभाग को 700 करोड़ की अघोषित आय का पता चला है. इसकी जानकारी कंपनी ने आयकर विभाग को नहीं दी थी. एएनआई की रिपोर्ट के अनुसार आयकर विभाग ने तमिलनाडु, केरल, आंध्र प्रदेश और गोवा में छह अगस्त को छापा मारा था. आयकर विभाग ने इस कंपनी के 55 ठिकानों पर छापेमारी की थी.

अब तक की जानकारी के अनुसार इस कंपनी की 700 करोड़ रुपये की ऐसी आय का पता चला है कि जिसकी सरकार को जानकारी ही नहीं थी. यह कंपनी बीयर और विदेशी शराब बनाती है. आयकर विभाग द्वारा छह अगस्त,  मंगलवार को  कंपनी के 55 ठिकानों पर छापे मारे थे.  तमिलनाडु, केरल, आंध्र प्रदेश और गोवा में कंपनी की संपत्तियों पर सर्च ऑपरेशन किया  गया था.

खबरों के अनुसार यह संपत्ति कंपनी के प्रमोटर, प्रमुख कर्मचारी की थी. सर्च ऑपरेशन कुछ महीने पहले मिली जानकारी के आधार पर चलाया गया. आयकर विभाग को जानकारी मिली थी कि कंपनी द्वारा आयकर की चोरी की गयी है. इसमें कहा गया था कि कंपनी अपनी उत्पादन प्रक्रिया में खर्च बढ़ाकर टैक्स बचा रही है.

इसे भी पढ़ें- बॉलीवुड डायरेक्टर अनुराग कश्यप ने Twitter को कहा अलविदा, लिखा- परिवार को मिल रही हैं धमकियां

कंपनी ने टैक्स बचाने के लिए हेराफेरी की

सर्च के दौरान, आयकर विभाग को कई ऐसे साक्ष्य हाथ लगे हैं , जिससे पता चलता है कि  कंपनी ने टैक्स बचाने के लिए हेराफेरी की . सबूत के रूप में  सप्लायर से खरीदे गये सामान के बिल हैं और बोतलें हैं.  सप्लायर को पूरी पेमेंट करने के लिए चेक और आरटीजीएस के बजाय नकदी का इस्तेमाल  हो रहा था. सप्लायर को कुछ पैसे आरटीजीएस से मिलते थे तो ज्यादातर पैसे नकद दिये जाते थे.

सर्च के दौरान आयकर विभाग को पता चला कि कंपनी की कर योग्य आय 300 करोड़ रुपए है. तलाशी की कार्रवाई के दौरान एक गुप्त सूचना के आधार पर आयकर विभाग के अधिकारियों के कंपनी कर्माचारियों को ट्रैक किया और उन्हें रोककर कार से 4.5 करोड़ रुपए बरामद किये. आयकर विभाग के अधिकारियों को सर्च ऑपरेशन में कंपनी के 700 करोड़ रुपए अघोषित आय का पता चला है.

इसे भी पढ़ें- सोनिया गांधी बनीं कांग्रेस की नयी अंतरिम अध्यक्ष, CWC की मीटिंग में हुआ फैसला

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: