Education & CareerRanchi

विनोद बिहारी महतो कोयलांचल विवि ने महंगा किया बीएड कोर्स, RU में नहीं  है फीस मॉनिटरिंग मापदंड

Ranchi : राज्य के बीएड कॉलेजों में नामांकन के लिए काउंसलिंग की प्रक्रिया चल रही है. इधर विनोद बिहारी महतो कोयलांचल विवि ने अपने तमाम बीएड कॉलेजों की फीस में बड़े पैमाने पर बढ़ोत्तरी कर दी है. विनोद बिहारी महतो कोयलांचल विश्वविद्यालय ने फीस में 60 हजार रुपये की बढ़ोत्तरी की है. जिससे इस विश्वविद्यालय से बीएड करना महंगा हो गया है. इस विश्वविद्यालय के अंतर्गत 26 कॉलेज आते हैं, जिनमें सरकारी और प्राइवेट दोनों कॉलेज हैं.

हालांकि बढ़ी हुई फीस पर सिंडिकेट की ओर से पहले बैठक की गय़ी थी, उसमें भी काफी विरोधाभास भी था. लेकिन काफी विचार के बाद सिंडिकेट की ओर से भी फीस बढ़ाने पर सहमति दे दी गयी. साथ ही बढ़ी हुई फीस पर सिंडिकेट की ओर से मुहर लगा दी गयी है.

इसे भी पढ़ें –  यूपी में भी टैक्स फ्री हुई फिल्म ‘सुपर 30’, कोचिंग के संस्थापक आनंद कुमार ने की सीएम योगी से मुलाकात

90 हजार की फीस बढ़कर हुई 1.50 लाख

बढ़ी हुई फीस के मुताबिक, अब दो वर्षीय बीएड की पढ़ाई के लिए 1.50 लाख रुपये चुकाने होंगे. पहले बीएड की पढ़ाई के लिए दो साल की फीस 90 हजार रुपये देने होते थे. जिसे बढ़ाकर विनोद बिहारी महतो कोयलांचल विश्वविद्यालय ने 1.50 लाख कर दिया है.

वहीं नयी फीस में विवि प्रशासन ने एससी-एसटी विद्यार्थियों को महज 10 हजार रुपये की छूट दी है. उन्हें दो साल की पढ़ाई के लिए 1.40 लाख रुपये ही देने होंगे. बढ़ी हुई फीस इस विवि के अंतर्गत आने वाले प्राइवेट और सरकारी दोनों कॉलेजों के लिए मान्य होगी. गौरतलब है कि पहले निजी बीएड कॉलेज के फीस के लिए कोई गाईडलाईन नहीं था.

इसे भी पढ़ें – पहले जिस पप्पू लोहरा के साथ घूमते थे, अब उससे ही लड़ना पड़ रहा झारखंड पुलिस को

प्राइवेट कॉलेजों ने खुद तय की थी अपनी फीस

गौरतलब है कि कुछ दिन पहले की निजी बीएड कॉलेजों की आपस में बैठक हुई थी. जहां उन्होंने खुद से अपनी फीस एक लाख पैसठ हजार रुपये तय किया. चूंकि इससे पहले विवि की ओर से कोई गाइडलाइन नहीं थी, ऐसे में निजी बीएड कॉलेज मनमानी फीस वसूलते थे.

अब फीस तय हो जाने के बाद निजी बीएड कॉलेज के विद्यार्थियों को लाभ मिलेगा. सिंडिकेट की बैठक में स्पष्ट किया गया है कि फीस स्ट्रक्चर जारी होने के बाद अब कोई भी प्राइवेट बीएड कॉलेज तय फीस से अधिक नहीं ले सकता है. यदि तय फीस से अधिक फीस लेने की शिकायत मिली तो विवि उस बीएड कॉलेज की मान्यता रदद करेगी.

रांची विवि में भी फीस निर्धारण की कोई व्यवस्था नहीं

डीएसडब्ल्यू पीके वर्मा ने बताया कि रांची विवि के तहत आने वाले बीएड कॉलेजों में फीस निर्धारण करने संबंधी जानकारी नहीं है. न ही किसी तरह का गाइडलाइन आया है, जिसमें यह कहा जाए कि सरकारी व प्राइवेट कॉलेजों की फीस एक समान हो.

इसे भी पढ़ें – केंद्र के अलावा कई राज्यों में उनकी सरकारें, फिर भी खेल रहे फर्रुखाबादी खेल

Related Articles

Back to top button