न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

यूपी में योगी की ठोक डालो नीति , तीन हजार से अधिक एनकाउंटर, 78 अपराधी ढेर, सात हजार गिरफ्तार

यूपी में अपराधियों की खैर नहीं है. जानकारी है कि योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व वाली भाजपा सरकार में जुलाई 2018 तक तीन हजार से अधिक एनकाउंटर किये गये,

58

 Lucknow : यूपी में अपराधियों की खैर नहीं है. जानकारी है कि योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व वाली भाजपा सरकार में जुलाई 2018 तक तीन हजार से अधिक एनकाउंटर किये गये, इसमें 78 अपराधी मार गिराये गये.  बता दें कि योगी आदित्यनाथ ने 19 मार्च 2017 को यूपी के सीएम पद की शपथ ली थी. जैसी कि जानकारी है, योगी सरकार एनकाउंटर, अपराधियों की हत्या और गिरफ्तारी के डेटा को अपनी उपलब्धियों के रूप में 26 जनवरी, शनिवार को जारी करेगी.  यूपी के मुख्य सचिव अनूप चंद्र पांडे ने इस संबंध में सभी जिलाधिकारियों को गणतंत्र दिवस से पूर्व संदेश प्रेषित किया था. डीजीपी कार्यालय के एक अधिकारी के अनुसार यह आंकड़ा मार्च 2017 से जुलाई 2018 के बीच का है. साथ ही सरकार की उपलब्धियों की सूची भी भेजी थी. संदेश पत्र में कहा गया है कि अपराधों पर नकेल कसने और वॉन्टेड अपराधियों की धरपकड़ के लिए राज्य भर में एक अभियान चलाया गया था.

मार्च 2017 से जुलाई 2018 तक कुल 3,026 एनकाउंटर

Related Posts

Karnataka : #CAA विरोधी नाटक का मंचन किया,  स्कूल के खिलाफ राजद्रोह का केस दर्ज

स्कूल में बच्चों द्वारा नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के खिलाफ एक नाटक का मंचन किया गया, जिसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की छवि धूमिल की गयी.

पत्र में दिये गये आंकड़ों के अनुसार, जुलाई 2018 तक कुल 3,026 एनकाउंटर हुए थे.  इनमें 69 अपराधी मार गिराए गये थे, जबकि 7,043 को गिरफ्तार किया गया.   इयी क्रम में 838 अपराधी पुलिस भिड़ंत में गंभीर रूप से घायल हुए.  दावा किया गया कि इसी दरमियान 11981 अपराधियों की जमानत रद्द हुई और उन सबने कोर्ट में सरेंडर किया.  पत्र के अनुसार स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) ने इसके अलावा नौ अन्य अपराधियों को भी ढेर किया और लगभग 139 अन्य की गिरफ्तारी की. मार्च 2017 से जुलाई 2018 तक  विश्लेषण करें तो हर दिन लगभग छह एनकाउंटर हुए और 14 अपराधी गिरफ्तार हुए. प्रति माह कम से कम चार अपराधियों को मौत के घाट उतारा गया. बता दें कि योगी सरकार के शुरुआती नौ महीनों में 17 अपराधियों को ढेर कर दिया गया था. जनवरी 201 से जुलाई 2018 के बीच लगभग 61 अपराधी एनकाउंटर में मार गिराये गये.

इसे भी पढ़ेंः 2019 लोकसभा चुनाव : एबीपी न्यूज और सी-वोटर के सर्वे में मोदी लहर नहीं, लोकसभा होगी त्रिशंकु

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like