Lead NewsNationalNEWS

Corona की तीसरी लहर में दूसरी की तुलना में रोजाना आधे ही मरीज मिलने की संभावना

अगस्त के मध्य तक दूसरी लहर के स्थिर होने की उम्मीद

New Delhi: कोरोना महामारी से संबंधित सरकारी समिति के एक विज्ञानी ने आशंका जताई है कि यदि देशवासी कोरोना से बचाव के नियमों का समुचित पालन नहीं करते हैं तो तीसरी लहर अक्टूबर-नवंबर में आ सकती है. राहत वाली बात यह है कि कोरोना की दूसरी लहर के दौरान रोजाना मिलने वाले संक्रमितों से आधे के ही तीसरी लहर में मिलने की संभावना है.

इसे भी पढ़ेंःयोगी आदित्यनाथ को इस नेता ने किया चैलेंज, कहा- 2022 में नहीं जीतने दूंगा चुनाव

विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग ने पिछले साल गणितीय माडल का उपयोग करके कोरोना वायरस मामलों में वृद्धि का पूर्वानुमान लगाने के लिए समिति का गठन किया था. समिति को कोविड की दूसरी लहर की सटीक प्रकृति का अनुमान नहीं लगाने के लिए भी आलोचना का सामना करना प़़डा था. इस तीन सदस्यीय समिति में शामिल मनिंद्र अग्रवाल ने कहा कि तीसरी लहर का अनुमान जताते समय प्रतिरक्षा की हानि, टीकाकरण के प्रभाव और एक अधिक खतरनाक स्वरूप की संभावना को कारक बनाया गया है, कुछ ऐसा जो दूसरी लहर के माडलिंग के दौरान नहीं किया गया था.

 

ram janam hospital
Catalyst IAS

‘सूत्र मॉडल’ या कोविड-19 के गणितीय अनुमान में शामिल मनिंद्र अग्रवाल ने यह भी कहा कि तीसरी लहर के अनुमान के लिए माडल में तीन परिदृश्य हैं – आशावादी, मध्यवर्ती और निराशावादी.’ उन्होंने कहा कि ‘आशावादी’ परिदृश्य में हम मानते हैं कि अगस्त तक जीवन सामान्य हो जाता है, और कोई नया म्यूटेंट नहीं होता है. दूसरा ‘मध्यवर्ती’ है. इसमें हम मानते हैं कि आशावादी परिदृश्य धारणाओं के अलावा टीकाकरण 20 प्रतिशत कम प्रभावी है. तीसरा ‘निराशावादी’ है. इसकी एक धारणा मध्यवर्ती से भिन्न है: अगस्त में एक नया, 25 प्रतिशत अधिक संक्रामक म्यूटेंट फैलता है (यह डेल्टा प्लस नहीं है, जो डेल्टा से अधिक संक्रामक नहीं है). अग्रवाल द्वारा साझा किए गए ग्राफ के अनुसार, अगस्त के मध्य तक दूसरी लहर के स्थिर होने की संभावना है.

The Royal’s
Sanjeevani
Pushpanjali
Pitambara

Related Articles

Back to top button