न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

सचिवालय में दीपावली गिफ्ट के नाम पर कंपनियों के उपहार देने पर किचकिच शुरू

31

Ranchi: पांच दिन बाद राज्य भर में ही नहीं, पूरे देश भर में दीपों का पर्व दीपोत्सव मनाया जायेगा. इसको लेकर सत्ता के गलियारे में उपहारों का लेन-देन शुरू हो गया है. राज्य के प्रोजेक्ट बिल्डिंग, नेपाल हाउस मंत्रालय समेत 13 से अधिक सरकारी भवनों, समाहरणालय परिसरों में कंपनियों के प्रतिनिधि घूमने लगे हैं. अमूमन दिपावली में ड्राइ फ्रूट्स, मिठाई पैक और अन्य उपहार देने का प्रचलन है. लेकिन सरकारी कर्मियों की अनाप-शनाप मांग से प्रतिनिधि भी अब मंत्रालय जाने से हिचकिचाने लगे हैं.

इसे भी पढ़ेंःक्या अपने कार्यक्रमों की वजह से आजसू की स्वाभिमान यात्रा में शामिल नहीं हुए मंत्री चंद्र प्रकाश चौधरी !

अफसरों के ठाट-बाट के अनुरूप भी कंपनियां अपना दीपावली गिफ्ट देती हैं. इस बार एप्पल फोन, एमआई के लेटस्ट फोन और लेटेस्ट इलेक्ट्रोनिक गैजेट्स की मांग की जा रही है. वैसे भी कंपनियों के प्रतिनिधि दीपावली के पहले सत्ता के गलियारे में कम ही दिखते हैं. गिफ्ट पैक अब या तो अफसर के घर में सीधा पहुंच रहा है अथवा अफसर के आवासीय गार्ड के पास पहुंचाये जा रहे हैं.
2018 में ड्राइ फ्रूट्स की डिमांड कम है. वहीं इलेक्ट्रोनिक गजट की डिमांड एवर ग्रीन बनी हुई है.

इसे भी पढ़ें- रामकृपाल कंस्ट्रक्शन प्राइवेट लिमिटेड ने विधानसभा भवन में कई काम किये सबलेट

कुछ कंपनियों की तरफ से डिजाइनर वाल क्लॉक भी दिये जा रहे हैं. इसमें अफसर अधिक दिलचस्पी नहीं दिखला रहे हैं. यहां यह बताते चलें कि 35 से अधिक महकमों में आइएएस, आइपीएस समेत अन्य पदाधिकारी पदस्थापित हैं. राज्य कर्मियों की संख्या 2.50 लाख के आसपास है. गिफ्ट पहुंचानेवाले कंपनियों के प्रतिनिधियों से तृतीय और चतुर्थवर्गीय कर्मचारी बख्शीश की मांग भी कर रहे हैं, जो उन्हें नागवार बीत रही है. भवन निर्माण, पथ निर्माण विभाग, नगर निगम, सरकार की विभिन्न एजेंसियों में मिठाईयों का डब्बा और अन्य चीजें कंपनी के प्रतिनिधियों से सीधे मांगी जा रही है.

इसे भी पढ़ें- इस औरत ने जो किया या कर सकती है, वह कोई मर्द भी नहीं कर सका : प्रो. रीता वर्मा

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: