न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

न्‍यूड वीडियो मामले में पुलिस ने की दोनों पक्षों से बात, जांच का आदेश

141

Ranchi: नामकुम में बुधवार को भर्ती मैदान में सेना के जवान द्वारा नाबालिग लड़की का न्‍यूड वीडियो बनाने के मामले में पुलिस के अधिकारियों ने दोनों पक्षों को बुलाया और बातचीत की. बुधवार को सेना के एक जवान द्वारा एक नाबालिग लड़की और उसके साथी का न्‍यूड वीडियो बनाने का मामला सामने आया था. इस वाकये के बाद ग्रामीणों और सेना के जवानों के बीच मारपीट हुई थी. इसी मामले को लेकर गुरुवार को ग्रामीण एसपी अजित पीटर डुंगडुंग और मुख्यालय एसपी-1 अमित रेणु ने दोनों पक्षों को आमने-सामने बैठा कर बातचीत की. बताया गया कि मामले की जांच मुख्यालय एसपी-1 अमित रेणु करेंगे. वहीं इस मामले को लेकर दोनों पक्षों के द्वारा एक दूसरे खिलाफ नामकुम थाने में शिकायत दर्ज करायी गयी है.

इसे भी पढ़ें – बढ़ सकती है सीएम रघुवर दास की मुश्किलें, हाईकोर्ट ने मैनहर्ट मामले में कहा – निगरानी आयुक्त वाजिब समय में आईजी विजिलेंस की चिट्ठी पर फैसला लें 

नाबालिक लड़कियों का न्‍यूड वीडियो बना कर दी थी धमकी

नामकुम के भर्ती मैदान में बुधवार की दोपहर सेना के जवान द्वारा नाबालिग लड़की का न्यूड वीडियो बनाने का मामले सामने आया था. इसको लेकर जम कर बवाल हुआ. उसके बाद ग्रामीण और सेना के जवान आमने-सामने हो गये. झड़प में प्रिंस, मोनू और आकाश नाम के युवक घायल हो गये. मोनू के कमर की हड्डी टूट गयी है. उसे रिम्स में भर्ती कराया गया है. वहीं कुछ जवानों को भी चोट लगी है.

इसे भी पढ़ें –  हैं CS रैंक के अफसर, काम कर रहे स्पेशल सेक्रेट्री का, कम ग्रेड पे पर भी काम करने को तैयार IFS अफसर

जवानों के द्वारा लड़की को एक कमरे में ले जाया गया

मिली जानकारी के अनुसार नाबालिग लड़की अपने दोस्त के साथ मैदान में बैठी थी. उसी समय जवान अमरेश कुमार पहुंचा और बिहार कैंप के पीछे एक कमरे में ले गया. ग्रामीणों का आरोप है कि जवान ने नाबालिग और उसके दोस्त का न्यूड वीडियो बनाया और कहा कि शाम में आना तो डिलीट कर देंगे. नहीं आने पर वायरल कर देंगे. शाम में नाबालिग ग्रामीणों के साथ पहुंची तो वहां अमरेश अपने साथी के साथ मौजूद था. ग्रामीणों ने दोनों जवानों की पिटाई कर दी. उसके बाद कुछ देर बाद सेना की गाड़ी से दर्जनों जवान पहुंचे और ग्रामीणों के साथ मारपीट करने लगे.

इसे भी पढ़ें – बढ़ सकती है सीएम रघुवर दास की मुश्किलें, हाईकोर्ट ने मैनहर्ट मामले में कहा – निगरानी आयुक्त वाजिब समय में आईजी विजिलेंस की चिट्ठी पर फैसला लें

फौजियों पर युवक को बंधक बनाने का आरोप

नामकुम के भर्ती मैदान में बुधवार शाम सेना के जवानों और ग्रामीणों के बीच नाबालिग के न्‍यूड वीडियो को लेकर हुए बवाल को लेकर सेना के जवानों ने चाय बागान के ग्रामीणों के साथ मारपीट की. साथ ही, करीब डेढ़ घंटे तक मोनू सिंह नामक युवक को बंधक भी बनाए रखा. इसकी जानकारी ग्रामीणों को हुई, तो वह बड़ी संख्या में उस जगह पहुंचे जहां मोनू को रखा गया था.

सेना के जवानों को भी आई है चोट

इस मारपीट में सेना के एक जवान को भी चोट आई है. प्रत्यक्षदर्शी ने बताया कि जब दोनों जवान लड़की को ले जा रहा थे,  तब 20-25 ग्रामीण वहां पहुंचे और उन्हें घेर लिया. इस दौरान एक जवान भाग निकला और एक पकड़ा गया. ग्रामीणों ने फौजी की जमकर पिटाई की इसके बाद ग्रामीण लौटने लगे, इसी दौरान 20-25 जवानों ने उन्हें घेर लिया और मारपीट की.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें
स्वंतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता का संकट लगातार गहराता जा रहा है. भारत के लोकतंत्र के लिए यह एक गंभीर और खतरनाक स्थिति है.इस हालात ने पत्रकारों और पाठकों के महत्व को लगातार कम किया है और कारपोरेट तथा सत्ता संस्थानों के हितों को ज्यादा मजबूत बना दिया है. मीडिया संथानों पर या तो मालिकों, किसी पार्टी या नेता या विज्ञापनदाताओं का वर्चस्व हो गया है. इस दौर में जनसरोकार के सवाल ओझल हो गए हैं और प्रायोजित या पेड या फेक न्यूज का असर गहरा गया है. कारपोरेट, विज्ञानपदाताओं और सरकारों पर बढ़ती निर्भरता के कारण मीडिया की स्वायत्त निर्णय लेने की स्वतंत्रता खत्म सी हो गयी है.न्यूजविंग इस चुनौतीपूर्ण दौर में सरोकार की पत्रकारिता पूरी स्वायत्तता के साथ कर रहा है. लेकिन इसके लिए जरूरी है कि इसमें आप सब का सक्रिय सहभाग और सहयोग हो ताकि बाजार की ताकतों के दबाव का मुकाबला किया जाए और पत्रकारिता के मूल्यों की रक्षा करते हुए जनहित के सवालों पर किसी तरह का समझौता नहीं किया जाए. हमने पिछले डेढ़ साल में बिना दबाव में आए पत्रकारिता के मूल्यों को जीवित रखा है. इसे मजबूत करने के लिए हमने तय किया है कि विज्ञापनों पर हमारी निभर्रता किसी भी हालत में 20 प्रतिशत से ज्यादा नहीं हो. इस अभियान को मजबूत करने के लिए हमें आपसे आर्थिक सहयोग की जरूरत होगी. हमें पूरा भरोसा है कि पत्रकारिता के इस प्रयोग में आप हमें खुल कर मदद करेंगे. हमें न्यूयनतम 10 रुपए और अधिकतम 5000 रुपए से आप सहयोग दें. हमारा वादा है कि हम आपके विश्वास पर खरा साबित होंगे और दबावों के इस दौर में पत्रकारिता के जनहितस्वर को बुलंद रखेंगे.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Open

Close
%d bloggers like this: