Education & CareerJharkhandSimdega

अगले 6 सालों में तीसरी क्लास तक के बच्चों को निपुण भारत योजना के जरिये गणित में बनाया जायेगा काबिल

Ranchi: ग्रामीण क्षेत्र के बच्चे अक्सर गणित की पढ़ाई में कमजोर रह जाते हैं. ऐसे में उनके लिये सिमडेगा में निपुण भारत योजना (नेशनल इनीशिएटिव फॉर प्रोफिशिएंसी इन रीडिंग विद अंडरस्टैंडिंग एंड न्यूमेरेसी) के जरिये पहल शुरू की गयी है. डीसी सुशांत गौरव ने गुरुवार को इसकी समीक्षा बैठक की. योजना के जरिये बच्चों की आधारभूत साक्षरता और संख्यात्मकता के ज्ञान को समृद्ध किये जाने के प्रयासों पर चर्चा हुई.

2026-27 तक प्रत्येक बच्चे को तीसरी कक्षा के अंत तक पढ़ने, लिखने एवं अंकगणित को सीखने की क्षमता प्रदान की जानी है. इस योजना का कार्यान्वयन स्कूल शिक्षा और साक्षरता विभाग द्वारा किया जाएगा.

इसे भी पढ़ें :1900 करोड़ का MOU करनेवाले आधुनिक पावर के अग्रवाल बंधु झारखंड को लगा चुके हैं 500 करोड़ का चूना

संख्यात्मक साक्षरता की स्थिति चिंताजनक

सुशांत गौरव के मुताबिक इस कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य पहली कक्षा से तीसरी तक के विद्यार्थियों में आगामी 5 वर्षों के भीतर फाउंडेशनल लिटरेसी एवं संख्यात्मक साक्षरता में शत प्रतिशत की उपलब्धि प्राप्त करना है. वर्तमान स्थिति को सुधारने की जरूरत है. निपुण भारत योजना के सफल क्रियान्वयन को प्रखण्ड वाईज रोस्टर तैयार किया जायेगा.

इसी महीने के अंत तक मास्टर ट्रेनर की नियुक्ति भी कर ली जानी है. 28 सितम्बर को मास्टर ट्रेनर की परीक्षा ली जाएगी. कागजों में नहीं, बल्कि शिक्षा के क्षेत्र में मास्टर ट्रेनर विद्यालय के बच्चों को निपुण बनायेंगे.

इसे भी पढ़ें :कोडरमा में जर्जर सड़क का मामलाः हाइकोर्ट ने एनएचएआइ से पूछा- एक ही बरसात में क्यों बह गयी सड़क

6400 टीलों में सर्वे

सिमडेगा जिला प्रशासन ने निपुण भारत को सफल बनाने को टास्क जारी किया है. प्रथम एजुकेशन संस्थान से वर्तमान समय में कक्षा तीन तक के बच्चों के शिक्षा स्तर का सर्वे करने को कहा गया है. जिले में 6400 टोला है. लगभग तीन हजार शिक्षक हैं. प्रत्येक शिक्षक एक टोला को गोद लेकर निपुण भारत का विजन प्लान तैयार करेंगे.

प्रत्येक शिक्षक अपना-अपना विजन प्लान तैयार करेंगे ना कि कॉपी पेस्ट. जिस शिक्षक के अधीन के टोले और उसके विद्यालय के बच्चे निपुण भारत में बेहतर पाये जाएंगे, उन्हें जिला स्थापना दिवस के मौके पर विशिष्ट शिक्षक का पुरस्कार मिलेगा.

प्रत्येक सप्ताह बैठक करते हुए सितम्बर माह के अन्त तक निपुण भारत प्लान से संबंधित सभी कार्यों को पूर्ण करने का भी निर्देश जिला प्रशासन ने संबंधित अधिकारियों को दिया है.

इसे भी पढ़ें :रौंगटे खड़े कर देने वाला CCTV आया सामने, दो मासूम और उनको बचाने गए 3 लोगों की करंट से मौत

Related Articles

Back to top button