न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

गिरिडीहः साइबर अपराध के झूठे केस से युवक को बचाने के नाम पर दारोगा ने वसूले 1 लाख 70 हजार, सस्पेंड

1,274

Giridih:  बेंगाबाद के एक युवक को साइबर अपराध में फंसाने की धमकी देकर युवक से नाजायज पैसे की वसूली करना बेंगाबाद थाना के एएसआई धर्मेन्द्र सिंह को महंगा पड़ गया. एसपी सुरेन्द्र झा ने सोमवार को एएसआई धर्मेन्द्र को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया. पुलिस सूत्रों की माने तो एसपी झा ने एएसआई को युवक को झूठे केस में फंसाने की धमकी देकर नाजायज पैसे की वसूली के लिए ये दंड दिया है.

mi banner add

साइबर अपराध के इसी केस के अनुसंधान में लापरवाही बरतने का आरोप भी लगाया गया है. जिस युवक को एएसआई ने साइबर अपराध के झूठे केस में फंसाने का धमकी देकर एक लाख 70 हजार की वसूली की वह, बेंगाबाद का बांसजोरा गांव निवासी विकास मंडल है.

इसे भी पढ़ेंः घर से बुलाकर की गयी युवक की हत्या, दो माह पूर्व हुई थी शादी

ऑडियो क्लीप के आधार पर हुई कार्रवाई

पुलिस सूत्रों की माने तो मामला 14 जून का है. लेकिन मामले का खुलासा शनिवार को हुआ.  जब भुक्तभोगी युवक के बड़े भाई दिनेश मंडल और एएसआई से हुए मोबाइल का ऑडियो क्लीप एसपी सुरेन्द्र झा को भेजा. जिसमें धर्मेन्द्र सिंह से विकास मंडल को छोड़ने के नाम पर पहले 3 लाख का मांगा गया.

इसके बाद दोनों में मोलभाव भी हुआ. जिसमें एएसआई धर्मेन्द्र सिंह को एक लाख 70 हजार देने की बात कही जा रही है. एसपी ने एएसआई पर लगे आरोपों को गंभीरता से लेते हुए निलंबित कर दिया है.

Related Posts

जेजेएमपी ने किया 21 जुलाई को झारखंड बंद का एलान

लातेहार जिले में सक्रिय किसी उग्रवादी संगठन ने लंबे समय बाद बंद बुलाया है.

इसे भी पढ़ेंः सांसद संजय सेठ का रात्रि बाजार गायब, दो हफ्ते भी ठीक से नहीं चला

पूछताछ के लिए दारोगा ने लाया था थाना

जानकारी के अनुसार 14 जून को बेंगाबाद के एएसआई साइबर अपराधियों को दबोचने के लिए बांसजोरा गांव पहुंचे. बासंजोरा निवासी दिनेश मंडल को व उसके भाई विकास मंडल को संदेह के आधार पर पूछताछ के लिए हिरासत में लिया. इस दौरान दिनेश मंडल ने जब एएसआई को छोड़ने की अपील की तो उसे वहीं मुक्त कर दिया.

जबकि विकास मंडल को हिरासत में लेकर बेंगाबाद थाना आ गये. दिनेश ने एएसआई से मोबाइल फोन पर विकास को भी छोड़ने की अपील की. मामला एक लाख 70 हजार पर पहुंचा, जिसे दिनेश ने दिया भी.

इसे भी पढ़ेंः सरयू राय ने सचिव को पत्र लिख कहा- धान बेचनेवाले 3434 किसानों को उनके खून पसीने की कमाई का भुगतान करें

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: