न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

JSIA के सर्वे में 91 फीसदी लोगों ने कहा, बिजली की स्थिति बदतर, अधिकारी हैं कि मिलते तक नहीं

449

Ranchi: JSIA (झारखंड स्मॉल स्केल इंस्डस्ट्री एसोसिएशन) के सदस्यों ने ट्वीट कर कहा राज्य भर में बिजली की स्थिति बद्तर हो चुकी है. JSIA के सदस्यों ने अपने ट्वीट में कहा है कि बिजली को लेकर ऑनलाइन सर्वे (POLL) कराया गया था, जिसमें 91 फीसदी लोगों ने बिजली की स्थिति को खराब बताया. बिजली से जुड़ी समस्‍याओं को बिजली विभाग सुनने को भी तैयार नहीं है. जब जेसिया के सदस्‍य जेबीएनएल के एमडी राहुल पुरवार से मिलने पहुंचे, तो उन्‍हें 3 घंटे इंतजार कराया गया. इसके बावजूद वो नहीं मिले. सदस्यों ने मुख्‍यमंत्री रघुवर दास और झारखंड बिजली वितरण निगम लिमिटेड के एमडी को समय रहते चेत जाने का सुझाव दिया है. अन्यथा आने वाले समय स्थानीय स्तर पर उद्योग करने वाले लोगों के लिए काफी बुरा हो सकता है. बिजली की यदि यही स्थिति रही तो कई छोटे और मंझौले उद्योग बंद हो जायेंगे.

इसे भी पढ़ें: जेबीवीएनएल के एमडी राहुल पुरवार ने तीन घंटे तक JSIA मेंबर को इंतजार करवाया, नहीं मिले

hosp3

न्यूज विंग ने चलाई थी खबर

बिजली की बदतर स्थिति को लेकर कुछ दिन पहले ही न्यूज विंग ने खबर चलाई थी. जिसमें हजारीबाग के स्मॉल इंडस्ट्री को बंद होने के कगार पर बताया गया था. झारखंड स्मॉल स्केल इंडस्ट्री एसोसिएशन (JSIA) ने हजारीबाग में बिजली की विकट स्थिति पर आपत्ति जताई थी. जिसपर JSIA ने ट्वीट करते हुए लिखा था कि बिजली की इस विकट समस्या की वजह से इंड्रस्ट्री बंद करने को बाध्य होना पडेगा. JSIA के सदस्यों ने कहा था कि सरकार का उड़ता हुआ हाथी हमारे उद्योग पर जा गिरा है. इससे उद्योग की स्थिति खतरे में आ चुकी है.

इसे भी पढ़ें: हजारीबाग में गहराया बिजली संकट, इंडस्‍ट्री बंद करने की नौबतः जेसिया

समय पर नहीं जागी सरकार तो बंद करना पड़ेगा उद्योग

JSIA के सदस्यों ने कहा कि बिजली की स्थिति में सुधार नहीं आई तो, छोटे और मझौले उद्योगों पर गहरा असर पड़ेगा. पहले ही विकट स्थिति की वजह से कई छोटे और मंझौले उद्योग बंद हो चुके हैं. यदि बिजली की ऐसी ही हालत रही तो आने वाले दिनों में और भी उद्योग बंद हो जायेंगे. JSIA के सदस्यों ने झारखंड सरकार और बिजली वितरण निगम के एमडी को इस दिशा में सकारात्मक पहल करते हुए बिजली की स्थिति में सुधार करने का आग्रह किया है.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: