lok sabha election 2019

गिरिडीह लोकसभा में जनता उम्मीदवार पर खुद फैसला ले, मेरा समर्थन किसी को नहीं हैः माधवलाल

Gomia:  मैंने किसी को अपना आशीर्वाद व समर्थन नहीं दिया है. यहां की जनता मेरी साथी है और साथी के साथ विचार-विमर्श करने के बाद ही किसी नतीजे पर पहुंचुंगा. ये बातें मंगलवार को सूबे के पूर्व मंत्री माधवलाल सिंह ने अपने आवासीय कार्यालय में पत्रकारों से कहीं. श्री सिंह ने कहा कि पिछले पांच मई को आजसू सुप्रीमो सुदेश कुमार महतो ने मेरे आवास पर आकर मुझसे राजग प्रत्याशी चन्द्रप्रकाश चौधरी के पक्ष में समर्थन व आशीर्वाद मांगा था, लेकिन मैंने उन्हें किसी तरह का कोई भी आश्वासन नहीं दिया है. विभिन्न समाचार पत्रों में मेरे द्वारा राजग प्रत्याशी के पक्ष में समर्थन देने की बात प्रकाशित की गई है, जो मिथक है. मैंने किसी को अपना समर्थन नहीं दिया है. कहा कि क्षेत्र की जनता अपनी बुद्धि और विवेक से स्वच्छ छवि वाले धरतीपुत्र को अपना मत दे.

akmYeसाथ ही कहा कि झारखंड की वर्तमान राजनीतिक परिस्थिति के मद्देनजर 2019 के लोकसभा चुनाव में गिरिडीह संसदीय क्षेत्र से जितने भी उम्मीदवार खड़े हैं,  उनकी सारी पृष्ठभूमि से यहां की जनता अवगत है. कहा कि मैं हमेशा से ही स्वच्छ, ईमानदार राजनीतिक का पक्षधर रहा हूं, इसलिए मैं गिरिडीह संसदीय क्षेत्र के मतदाताओं एवं अपने सहयोगियों व कार्यकर्ताओं से अपील करता हूं कि क्षेत्रीय विकास की कल्पना करनेवाले साफ-सुथरे, ईमानदार धरतीपुत्र को गिरिडीह संसदीय क्षेत्र का प्रतिनिधि चुने.

इसे भी पढ़ें – गिरिडीह लोकसभाः क्या केले को भेद सकेगा तीर

advt

आजसू का है बीजेपी से गठबंधन, माधवलाल ने बीजेपी से लड़ा था उपचुनाव

गोमिया के पूर्व विधायक योगेंद्र महतो को मिली दो साल की सजा की वजह से गोमिया विधानसभा में उपचुनाव हुआ था. उपचुनाव में जेएमएम उम्मीदवार बबीता देवी ने बाजी मारी थी. बबीता देवी पूर्व विधायक योगेंद्र महतो की पत्नी हैं. जेएमएम के बाद दूसरे नंबर पर लंबोदर महतो थे. वो करीब 1344 वोट के अंतर से बबीता देवी से हारे थे. तीसरे नंबर पर बीजेपी से उम्मीदवार माधवलाल सिंह थे. 2018 के गोमिया के उपचुनाव में माधवलाल सिंह का मुकाबला आजसू के उम्मीदवार लंबोदर महतो से था. आनेवाले विधानसभा चुनाव में निश्चित तौर से माधवलाल सिंह मैदान में उतरेंगे. बताया जा रहा है कि आगामी चुनाव में भी आजसू ही माधवलाल सिंह के सामने होगा. ऐसे में आजसू के उम्मीदवार को समर्थन देना माधवलाल सिंह के लिए एक राजनीतिक भूल हो सकती है. बताया जा रहा है कि इसी वजह से माधवलाल सिंह आजसू उम्मीदवार का समर्थन करने से पीछे हट रहे हैं. इशारों ही इशारों में उन्होंने जेएमएम की तरफ समर्थन का इशारा किया है.

इसे भी पढ़ें – गिरिडीह लोकसभाः क्या केले को भेद सकेगा तीर

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button