JharkhandRanchi

घटिया राजनीति कर रहे बाबूलाल, कोरोना काल में एक-एक सिपाही लड़ रहा जंग, अभी अंगरक्षक मांगना सही नहीं : राजेश ठाकुर

विज्ञापन

Ranchi : चर्चित योग शिक्षिका राफिया नाज की सुरक्षा की मांग और राज्य की कानून व्यवस्था पर भाजपा नेता बाबूलाल मरांडी द्वारा सवाल उठाये जाने पर कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष राजेश ठाकुर ने पलटवार किया है.

उन्होंने कहा कि बाबूलाल मरांडी घटिया राजनीति पर उतारू हो गये हैं. राज्य की जनता ज़िंदगी और मौत की लड़ाई लड़ रही है. पुलिस दिन-रात जनता की सेवा में लगी हुई है. एक-एक सिपाही हज़ार-हज़ार लोगों की सुरक्षा एक साथ कर रहे हैं. ऐसे में अंगरक्षक के लिए प्रेस कांफ्रेंस करना राज्य के लोगों की ज़िंदगी के साथ खिलवाड़ करने जैसा प्रतीत होता है.

इसे भी पढ़ें – बीआइटी के नये कुलपति बने इंद्रनील मन्ना, पदभार ग्रहण किया

advt

गठबंधन सरकार में राज्य की जनता को मिल रही सुरक्षा की गारंटी

ठाकुर ने कहा कि उन्हें मालूम है कि देश के गृह मंत्री अमित शाह सैकड़ों सुरक्षाकर्मी के बीच रहते हुए उनकी ज़िंदगी को कोरोना के कारण ख़तरा पैदा हो गया है.

राज्य में भारतीय जनता पार्टी और रघुवर दास की सरकार नहीं है. यह गठबंधन एवं हेमंत सोरेन की सरकार है. जहां हर व्यक्ति को सुरक्षा की गारंटी दी जा रही है. राजेश ठाकुर ने कहा कि वैसे भी कोरोना संकट के दौर में बाहर निकलने से परहेज़ करना है. ऐसे में अंगरक्षक का नहीं होना कोई ख़ास मायने नहीं रखता है.

इसे भी पढ़ें – योग टीचर राफिया नाज ने मांगी सरकार से सुरक्षा, बाबूलाल मरांडी ने कहा- महिला सुरक्षा जरूरी

योग शिक्षक को अगर कोई समस्या होती तो वह मुख्यमंत्री या वित्त मंत्री से मिलती

उन्होंने कहा कि योग शिक्षक के पास जनवरी से अंगरक्षक नहीं है, बावजूद वह सुरक्षित है. ऐसे में बाबूलाल मरांडी को आगे आकर मामले में राजनीति करना शोभा नहीं देता. योग शिक्षक को अगर कोई समस्या थी, तो उन्हें मुख्यमंत्री अथवा वित्त मंत्री सह कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष डॉक्टर रामेश्वर उंराव से मिलकर बताना चाहिए था.

adv

कांग्रेसी नेता ने कहा कि बाबूलाल जी को भ्रम हो गया है कि भाजपा में आकर सत्ता में आ गये हैं. वो चाहते हैं कि अधिकारी उनके एजेंडे पर चलें. बाबूलाल के एजेंडा के बारे में सरकार को पता है. वह किन लोगों को सुरक्षित रखना चाहते हैं, यह किसी से छुपा नहीं है. बाबूलाल जी को कोरोना संक्रमण को ध्यान में रखते हुए इस तरह की राजनीति से परहेज़ करना चाहिए.

इसे भी पढ़ें – सात अगस्त को ओटीटी प्लेफार्म पर रिलिज होगी बेरमो के पीयूष प्रियंक की लिखी फिल्म ‘स्कॉटलैंड’

advt
Advertisement

5 Comments

  1. I love looking through a post that can make people think. Also, many thanks for permitting me to comment!

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button