GiridihJharkhand

गायत्री महायज्ञ के पूर्णाहुति में लिया सन्मार्ग पर चलने का संकल्प

Giridih : गायत्री शक्तिपीठ के तत्वाधान में आयोजित गायत्री महायज्ञ का समापन रविवार की शाम पूर्णाहुति के साथ किया गया. हरिद्वार के साथ शांतिकुंज से पहुंचे परमेशवर जी के सानिध्य में गायत्री महायज्ञ का समापन हुआ. इस दौरान महायज्ञ में गायत्री शक्तिपीठ के जिला प्रमुख कामेशवर सिंह के साथ राजेश राम, सहदेव प्रसाद, वासुदेव नारायण सिंह, संजय राम, राजेश वर्मा समेत लेदा के आसपास के दर्जनों गांव के ग्रामीण शामिल हुए. गायत्री परिवार के इस 24 कुंडीय महायज्ञ के अंतिम दिन श्रद्धालुओं ने सन्मार्ग पर चलने का संकल्प लिया, तो एक-एक श्रद्धालुओं ने गांव को नशामुक्त करने का भी संकल्प लिया.

इसे भी पढ़ें : झारखंड पंचायत चुनावः पति पत्नी आपस में टकराए, वोटरों ने पति को औंधे मुंह गिराया

Chanakya IAS
Catalyst IAS
SIP abacus

श्रद्धालुओं ने लेदा समेत कई गांवो को स्वच्छत करने की बात कही. महायज्ञ के समापन के दौरान विराट दीप महायज्ञ आयोजित की गई. जिसमें एक साथ 1008 दीप प्रज्जवलित कर श्रद्धालुओं ने खुद को माता गायत्री के आस्था से जोड़ा. एक साथ 1008 दीप के प्रज्जवलित किए जाने से भी आयोजन स्थल पूरी तरह भक्तिमय रहा. समापन के दौरान 50 मुंडन संस्कार के साथ 70 विद्यारंभ और तीन नामकरण संस्कार के साथ 4 नौनिहालों का अन्नप्रासन्न किया गया. तो मौके पर करीब दो सौ लोगों ने गायत्री महामंत्र की दीक्षा लेकर खुद को गायत्री परिवार से जोड़ा.

The Royal’s
MDLM
Sanjeevani

Related Articles

Back to top button