JamshedpurJharkhand

स्वच्छ सर्वेक्षण-2021 में जुगसलाई पूर्वी भारत में अव्वल, जेएनएसी झारखंड में टॉप पर, डीसी सूरज कुमार ने ग्रहण किया पुरस्कार

Jamshedpur : स्वच्छ सर्वेक्षण-2021 में इस  साल भी जमशेदपुर ने अपना लोहा मनवाया. गार्बेज फ्री सिटी और सफाई मित्र सुरक्षा चैलेंज में जमशेदपुर अधिसूचित क्षेत्र समिति (JNAC) को पूरे देश में 12वां और झारखंड में पहला स्थान प्राप्त हुआ. वहीं कम आबादी वाले जनसंख्या श्रेणी में गार्बेज फ्री सिटी में जुगसलाई नगर पर्षद को झारखंड में पहला स्थान मिला है. शनिवार को दिल्ली के विज्ञान भवन में स्वच्छ सर्वेक्षण-2021 के विजेता जिलों को केंद्रीय ग्रामीण विकास राज्य मंत्री कौशल किशोर ने पुरस्कृत किया. जमशेदपुर की ओर से ट्रॉफी और पांच करोड़ की इनाम राशि उपायुक्त सूरज कुमार ने ग्रहण की. इस अवसर पर जेएनसएसी  विशेष पदाधिकारी कृष्ण कुमार, जुगसलाई के कार्यपालक पदाधिकारी जगदीश प्रसाद यादव, जुस्को के महाप्रबंधक कैप्टन धनंजय मिश्रा, जमशेदपुर अधिसूचित क्षेत्र समिति (जेएनएसी) के नगर प्रबंधक संदीप कुमार उपस्थित थे. स्वच्छ सर्वेक्षण-2021 का प्रारंभ अप्रैल 2020 से हुआ था, जो कि इस वर्ष फरवरी-2021 तक चला. ज्ञातव्य हो कि बीते वर्ष जेएनएसी को पूरे देश में उक्त दोनों कैटेगरी में 13वां स्थान मिला था.

उपायुक्त ने शहरवासियों का जताया आभार

स्वच्छता पुरस्कार मिलने के बाद उपायुक्त सूरज कुमार ने जमशेदपुर की जनता का आभार व्यक्त किया है. उन्होंने कहा कि जनता के सहयोग और सर्वेक्षण से जुड़ी गाइड लाइन का पालन करने के परिणामस्वरूप ही यह उपलब्धि हासिल हो सकी. विशेष पदाधिकारी कृष्ण कुमार और जुस्को के महाप्रबंधक कैप्टन धनंजय मिश्रा ने भी जमशेदपुर की जनता का आभार व्यक्त किया है.

जुगसलाई नगर परिषद ने राज्य का नाम किया रोशन

स्वच्छ सर्वेक्षण 2021 में जमशेदपुर अधिसूचित क्षेत्र समिति व जुगसलाई नगर परिषद को पुरस्कार के लिए चयनित होना शहर व राज्य के लिए गौरव की बात है. जुगसलाई नगर परिषद के कार्यपालक पदाधिकारी जेपी यादव ने बताया कि स्वच्छ भारत प्रतियोगिता 2020 में भी पूर्वी भारत में 50 हजार से कम जनसंख्या वाले शहरों में जुगसलाई 9वें स्थान पर था.

जुगसलाईवासी व सफाई से जुड़े कर्मियों को धन्यवाद : जेपी यादव

जुगसलाई नगर परिषद के कार्यपालक पदाधिकारी जेपी यादव ने पुरस्कार ग्रहण करने के बाद दूरभाष पर बातचीत करते हुए बताया कि जुगसलाई को पूर्वी भारत में नंबर वन बनाने का श्रेय जुगसलाईवासियों को है. इसके अलावा सफाई कार्य में जुड़े सफाई मजदूर, कर्मचारी, सिटी मैनेजर राजेंद्र प्रसाद, स्वच्छता विशेषज्ञ सोनी कुमारी आदि का सराहनीय योगदान रहा.

डोर टू डोर कचरा प्रबंधन का रहा अहम योगदान

जमशेदपुर अक्षेस के विशेष पदाधिकारी कृष्ण कुमार व जुगसलाई नगर परिषद के कार्यपालक पदाधिकारी जेपी यादव कहते हैं कि झारखंड में नंबर वन आने का सबसे बड़ा कारण था, डोर टू डोर सर्विस को हर गली तक पहुंचाया गया, लोगों से अपील की गई कि कचरा नगर परिषद की गाड़ी में ही दें. सेमिनार द्वारा लोगो को रीसाइकिल, रीयूज, रिड्यूस तकनीकों से रूबरू कराया गया. लोगों को कचरे के बारे में जागरूक करने के लिए नव वर्ष में कैलेंडर बंटवाया गया, जिसमें कि कचरे के पृथककरण के बारे बताया गया. बाजार समिति, रेसिडेंशियल सोसाइटी के सदस्यों और सेप्टिक टैंक ऑपरेटर को कचरे निपटारे की सही तरीकों की जानकारी दी गयी. स्वच्छता जागरूकता अभियान को लेकर गली मोहल्लों तक जन जागरूकता अभियान चलाया गया. वर्षों पुराने डस्टबिन को हटा कर सेल्फी प्वाइंट बनाया गया, दीवारों पर पेंटिंग करायी गयी. स्कूलों, होटलों और अपार्टमेंट में स्वच्छता प्रतियोगिता कराकर विजेताओं को पुरस्कार दिया गया.

इसे भी पढ़ें  – केंद्रीय कृषि मंत्री का इस्तीफा मांगने पर CM हेमंत पर हमलावर हुई भाजपा, कहा- रोज वादाखिलाफी करनेवाली सरकार पहले खुद दे इस्तीफा

Related Articles

Back to top button