National

#Samana में संजय राउत ने लिखा, सत्ता पाने की जल्दबाजी, फडणवीस की बचकानी टिप्पणियां भाजपा को ले डूबी

Mumbai : महाराष्ट्र में ठाकरे राज का आगाज, फ्लोर टेस्ट में बहुमत और स्पीकर पद पर नाना पटोले के निर्विरोध निर्वाचन के बाद  देश की राजनीति ने नयी करवट ले ली है.  अब भाजपा के फडणवीस पर एक बार फिर शिवसेना प्रवक्ता संजय राउत ने हमलावर हुए हैं.  राउत ने शिवसेना के मुखपत्र सामना  में अपने कॉलम रोकठोक में लिखा.

फडणवीस की सत्ता हासिल करने की जल्दबाजी और बचकानी टिप्पणियां प्रदेश में भाजपा को ले डूबीं और उन्हें विपक्ष में बैठना पड़ गया.  राउत ने दावा किया कि शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे, एनसीपी सुप्रीमो शरद पवार और कांग्रेस नेता सोनिया गांधी के साथ आने से महाराष्ट्र में जो हुआ वह देश को भी स्वीकार है.

राउत ने कहा कि  बचकानी टिप्पणियों की वजह से फडणवीस खुद विपक्षी नेता बन गये.  फडणवीस ने कहा था कि वह वापस लौटेंगे, लेकिन सत्ता में आने की उनकी जल्दबाजी 80 घंटे के भीतर भाजपा को ले डूबी. जरूरत से अधिक आत्मविश्वास फडणवीस के दिल्ली के वरिष्ठ नेताओं पर भरोसे ने उनकी राजनीति तबाह कर दी.

Catalyst IAS
ram janam hospital

इसे भी पढ़ें : #HyderabadGangrapeCase: बॉलीवुड हस्तियों में गुस्सा, कहा- इंसानी रूप में फैले हुए शैतान हैं अपराधी

The Royal’s
Sanjeevani
Pushpanjali
Pitambara

महाराष्ट्र दिल्ली की तरह चल रहे भीड़ तंत्र के आगे नहीं झुका

जान लें कि बिना किसी का नाम लिये भाजपा  के केंद्रीय नेतृत्व पर निशाना साधते हुए राउत ने कहा कि महाराष्ट्र, दिल्ली की तरह चल रहे भीड़ तंत्र के आगे नहीं झुका.  अहम यह है कि उद्धव ठाकरे मोदी-शाह के दबदबे को खत्म कर सत्ता में आये है. राउत ने भरोसा जताया कि उद्धव सरकार अपना पांच साल का कार्यकाल पूरा करेगी.

राउत ने कहा, ‘मुझे यह देखकर मजा आ रहा है कि जो लोग अजित पवार के फडणवीस के साथ गठजोड़ को शरद पवार की पहले से तय योजना बता रहे थे, वह अब महाविकास आघाड़ी सरकार बनने के बाद एनसीपी प्रमुख के आगे नतमस्तक हो रहे हैं.

विधानसभा चुनाव के दौरान फडणवीस ने कहा था कि राज्य में कोई विपक्षी दल नहीं बचेगा और शरद पवार का काल खत्म हो रहा है.  साथ ही  उन्होंने दावा किया था कि प्रकाश आंबेडकर का वंचित बहुजन आघाड़ी मुख्य विपक्षी दल होगा.

इसे भी पढ़ें : जीडीपी, आर्थिक मंदी और बेरोजगारी जैसे मुद्दों पर क्यों संवेदनहीन है हिंदी मीडिया

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button