National

#Ramayana_Period में पुष्पक विमान था, अर्जुन के तीरों  में परमाणु शक्ति थी : राज्यपाल जगदीप धनखड़

Kolkata : पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने मंगलवार को दावा किया कि रामायण के दिनों में भी पुष्पक विमान था और महाभारत के अर्जुन के तीरों मे परमाणु शक्ति थी. एक कार्यक्रम में धनखड़ ने कहा, यह 20वीं सदी में नहीं, बल्कि रामायण के दिनों में हमारे पास पुष्पक विमान था. संजय ने महाभारत का पूरा युद्ध घृतराष्ट्र को सुनाया, लेकिन टीवी देखकर नहीं. महाभारत में अर्जुन के तीरों में परमाणु शक्ति थी.

संजय के पास दिव्यदृष्टि जैसी कोई शक्ति थी

कहा कि महाकाव्य महाभारत में ऐसा प्रसंग है कि कुरुक्षेत्र के युद्ध के दौरान संजय ने हस्तिनापुर में बैठकर दृष्टिबाधित नरेश धृतराष्ट्र को आंखों देखा हाल सुनाया था.  इसके लिए संजय के पास दिव्यदृष्टि जैसी कोई शक्ति थी.  इस क्रम में  राज्यपाल ने मीडिया से  कहा कि विमान का अविष्कार 1910 के बाद किया गया, लेकिन हमारे धर्मग्रंथों पर नजर डालें तो रामायण के समय पर ही हमारे पास उड़न खटोला था.

राज्यपाल ने कहा कि दुनिया भारत की अनदेखी नहीं कर सकती है.  हालांकि जगदीप धनखड़ के इस बयान पर देश के वैज्ञानिकों ने उनकी आलोचना करते हुए कहा कि राज्यपाल को ऐसी बयान नहीं देना चाहिए क्योकिं समाज पर इसका गलत प्रभाव पड़ेगा.

advt

इसे भी पढ़ें :#MakeInIndia उत्पादों पर एक अरब डॉलर का निवेश करेगी अमेजन: बेजोस

राज्यपाल को इस तरह का बयान नहीं देना चाहिए

परमाणु भौतिक वैज्ञानिक बिकाश सिन्हा ने राज्यपाल के बयान पर कहा कि किसी दिन वह यह भी कह सकते हैं कि भगवान कृष्ण के चक्र में हाइड्रोजन बम की शक्तियां थीं.  राज्यपाल के बयान को उन्होंने बेतुका करार दिया. कहा कि एक राज्यपाल को इस तरह का बयान नहीं देना चाहिए,  क्योंकि इसका लोगों पर गलत प्रभाव पड़ेगा.

धनखड़ इन दिनों बंगाल की राजनीति को लेकर चर्चा में हैं.  कुछ दिन पहले ही उन्होंन राज्य की सीएम ममता बनर्जी सरकार पर आरोप लगाया था कि कोई भी अधिकारी उनकी बात नहीं सुन रहा है और राज्य सरकार उनसे किसी भी काम को लेकर संवाद नहीं करती है.   इससे नाराज होकर राज्यपाल विधानसभा गेट के बाहर ही धरने पर बैठ गये थे.

इसे भी पढ़ें : सीएए और एनआरसी के विरोध में देशभर में बन चुके हैं कई नये शाहीनबाग

adv
advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button