न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पाकिस्तान में आर्थिक कंगाली, 32 सालों में पहली बार आतंकी शिविरों पर ताले लगाये गये

कश्मीर रीडर ने 20 मई को खबर प्रकाशित कर बताया कि पाकिस्तान ने उन सभी आतंकवादी संगठनों के शिविरों पर ताला लगा दिया है, जो उसके इशारों पर कश्मीर में गड़बड़ी फैलाते थे.

655

Islamabad : पाकिस्तान ने 32 सालों में पहली बार आतंकी शिविरों पर ताला लगा दिया है. कश्मीर के जाने-माने अखबार कश्मीर रीडर ने 20 मई को खबर प्रकाशित कर बताया कि पाकिस्तान ने उन सभी आतंकवादी संगठनों के शिविरों पर ताला लगा दिया है, जो उसके इशारों पर कश्मीर में गड़बड़ी फैलाते थे. क्या पाकिस्तान डर गया है? क्या वो भारत सरकार के बिछाए राजनयिक जाल में बुरी तरह फंस चुका है.

जो भी हो लेकिन पाकिस्तान को पहली बार वाकई पसीना आ रहा है. उसकी विदेशी मुद्रा का खजाना भी खाली हो चुका है. उसे उस लिस्ट में डाल दिया गया है, जिसमें उन देशों को डाला जाता है, जो आतंकवादियों की मदद करते पाये जाते हैं. इन देशों को कोई देश किसी तरह की मदद नहीं करता.

इसे भी पढ़ें – एग्जिट पोल्स से परेशान विपक्षी दलों का चुनाव आयोग के बाहर प्रदर्शन, उदित राज ने सुप्रीम कोर्ट पर सवाल उठाया

यूनाइटेड जिहादी काउंसिल से जुड़े 12 संगठनों के ऑफिस सीलबंद

खबरों के अनुसार एक दो दिन पहले पाकिस्तान ने 32 सालों में पहली बार आतंकी शिविरों पर ताला लगा दिया है.   कश्मीर रीडर  के अनुसार पाकिस्तान ने उन सभी आतंकवादी संगठनों के शिविरों पर ताला लगा दिया है, जो उसके इशारों पर कश्मीर में गड़बड़ी फैलाते थे. पाकिस्तान ने यूनाइटेड जिहादी काउंसिल से जुड़े 12 संगठनों के ऑफिसों को सीलबंद कर दिया. इन आतंकी संगठनों को चलाने के लिए पाकिस्तान उन्हें जो आर्थिक मदद देता था या जो आर्थिक मदद उन्हें बाहर से मिलती थी, उस पर भी पूरी तरह से रोक लगा दी गयी है.

इसे भी पढ़ें – राफेल  डील : SC में प्रशांत भूषण सहित अन्य याचिकाकर्ताओं ने लिखित पक्ष रखा

भारत के एयर स्ट्राइक ने पाकिस्तान के आत्मविश्वास को हिलाकर रख दिया

पुलवामा के हमले के बाद भारत ने पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर के बालाकोट में आतंकी शिविरों को निशाना बनाते हुए एयर स्ट्राइक की. भारत के इस कदम ने पाकिस्तान के आत्मविश्वास को हिलाकर रख दिया. उसे समझ में आ गया कि अब भारत में वो अपनी जमीन से प्रायोजित आतंकवाद नहीं चला सकता. संयुक्त राष्ट्र में पाकिस्तान के नहीं चाहने के बाद भी चीन को मसूद अजहर को ग्लोबल आतंकवादी घोषित करने का समर्थन करना पड़ा.

Related Posts

#SaudiAramco के ऑइल प्रोसेसिंग प्लांट्स पर ड्रोन हमले के बाद 10 फीसदी बढ़े कच्चे तेल के दाम

अमेरिका और रूस जैसे दूसरे ऑइल प्रड्यूसर्स आसानी से उसकी जगह ले सकते हैं

इन दोनों बातों से अगर पाकिस्तान ने पहली बार दबाव महसूस करना शुरू किया तो आर्थिक कंगाली ने नसें और ढीली कर दीं. उसने जब पिछले दिनों आर्थिक मदद के लिए सऊदी अरब, संयुक्त अरब अमीरात और चीन के आगे हाथ फैलाए तो निराशा हाथ लगी थी.

गले की फांस बनी एफएटीएफ की ग्रे लिस्ट

आईएमएफ उसे कर्ज दे जरूर रहा है, लेकिन कड़ी शर्तों के साथ. इसमें अड़चन बनी हुई है एफएटीएफ की ग्रे लिस्ट, जिसमें पाकिस्तान का नाम पिछले दिनों शुमार कर लिया गया. इस लिस्ट में उन देशों को शामिल किया जाता है, जिनके खिलाफ आतंकवादियों को सहयोग और आर्थिक मदद के आरोप के साथ साक्ष्य भी होते हैं. जैसे ही पाकिस्तान का नाम एफएटीएफ की लिस्ट में आया, उसके होश फाख्ता हो गये. क्योंकि जब तक उसका नाम इस लिस्ट में रहेगा, तब तक कोई देश उसकी आर्थिक मदद के लिए आगे नहीं आने वाला.

लिहाजा पाकिस्तान इस समय चारों ओर हाथ-पैर फेंक रहा है कि किसी तरह उसे इस सूची से बाहर किया जाये. पाकिस्तान में 32 सालों से चल रहे आतंकी कैंपों को बंद करने का कदम इसी दिशा में उठाया गया है.   हालात, जो किसी भी देश को दीवालियापन की ओर ले जाते हैं. पाकिस्तान का विदेशी मुद्रा भंडार पूरी तरह खाली है.

बाहर से उसके लिए कुछ भी मंगाना मुश्किल हो चला है. तेल तक मंगाने के लाले हैं. एक डॉलर की कीमत 152 पाकिस्तानी रुपये के बराबर हो चुकी है. उसे पेट्रोल में राशनिंग जैसे हालात से गुजरना पड़ रहा है. ये हालात तब तक ज्यादा रहेंगे जब तक कि वो एफएटीएफ की ग्रे लिस्ट से बाहर नहीं निकल पाता.

इसे भी पढ़ें –  नरेंद्र मोदी को दोबारा प्रधानमंत्री बनते नहीं देखना चाहते पाकिस्तानी नागरिक

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like

you're currently offline

%d bloggers like this: