GiridihJharkhand

 ईएसआई कार्ड के लिए ठग सज्जाद शेख ने महिलाओं को धरने पर बैठाया, वसूली करने पर महिलाओं  का हंगामा

विज्ञापन

Giridih : ईएसआई कार्ड बनाने के नाम पर बुधवार को गिरिडीह के श्रमाधीक्षक कार्यालय में गांडेय का नटवर लाल कहा जाने वाला सज्जाद शेख सैकड़ो महिलाओं के साथ धरने पर बैठ गया, लेकिन जब सज्जाद शेख महिलाओं से वसूली करने लगा तो जिन महिलाओं को सज्जाद शेख ने धरने के लिए बुलाया था, उन महिलाओं ने ही सज्जाद शेख के खिलाफ जमकर हंगामा और नारेबाजी शुरू कर दी.

ठग सज्जाद शेख ने महिलाओं को बताया था कि वह श्रमाधीक्षक है

जिन महिलाओं को सज्जाद शेख ने धरना देने के लिए बुला था, वे महिलाएं स्वयं सहायता समूह की सदस्याएं थी. सज्जाद शेख ने इन महिलाओं को बरगला कर श्रमाधीक्षक कार्यालय धरना के लिए बुलाया था. इस मामले में श्रमाधीक्षक रविशंकर ने हस्तक्षेप करते हुए महिलाओं से पूरे मामले की जानकारी ली. धरना देने पहुंची महिलाओं ने श्रमाधीक्षक रविशंकर को बताया कि सज्जाद शेख ने उनलोगों को बताया था कि वह श्रमाधीक्षक है.

इसे भी पढ़ें : #Dhanbad: जालसाज ने महिलाओं को झांसा देकर हड़पे लोन के 22 लाख रुपये, अब परेशान कर रही फाइनेंस कंपनी

  महिलाओं  से कार्ड बनवाने के नाम पर अनाप-शनाप पैसे वसूल चुका था

मजदूर कार्ड बनाने की बात कहते हुए धरना देने के लिए महिलाओं को बुलाया था. सज्जाद शेख भारतीय मजदूर संघ के बैनर का सहयोग लेते हुए हर महिला से कार्ड बनवाने के नाम पर अनाप-शनाप पैसे वसूल चुका था. किसी महिला से पांच सौ तो किसी से सात सौ-आठ सौ रुपये तक की वसूली कर चुका था. यह भी सामने आया कि इस ठगी में सज्जाद शेख का सहयोग मकरु महतो, एमपी वर्मा ने भी किया था.

इसे भी पढ़ें : कभी एस्कॉर्ट लेकर चलनेवाले विधायक ढुल्लू महतो आज बगैर बॉडीगार्ड के गुपचुप तरीके से हुए फरार

कार्ड बनवाने के नाम पर वसूली शुरू हुई, तो महिलाओं ने हंगामा शुरू कर दिया

जानकारी के अनुसार श्रमाधीक्षक कार्यालय में जब सज्जाद शेख अपने सहयोगियों के साथ महिलाओं को लेकर धरनास्थल पहुंचा, तो धरना बेहतर तरीके से शुरू हुआ, लेकिन इसके बाद महिलाओं से कार्ड बनवाने के नाम पर वसूली शुरू हुई, तो महिलाओं ने हंगामा शुरू कर दिया. हंगामा कुछ इस कदर बढ़ा कि महिलाएं सज्जाद शेख के खिलाफ कार्रवाई की मांग करने लगी. इसके बाद सज्जाद शेख वहां से खिसक लिया. हंगामे के क्रम में यह भी सामने आया कि सज्जाद शेख पहले दुमका में श्रमिक मित्र के रुप में कार्य कर चुका था.

लेकिन वहां किसी घोटाले के कारण सज्जाद शेख को हटा दिया गया था. इसके बाद सज्जाद शेख ने गिरिडीह के पीरटांड, बदगुंडा समेत अन्य इलाकों की स्वयं सहायता समूह चलाने वाली महिलाओं को वसूली के लिए अपने शिकंजे में लपेटा, लेकिन ठगी में धरा गया. हो हंगामे के बाद श्रमाधीक्षक रविशंकर ने आरोपी सज्जाद शेख के खिलाफ नगर थाना में केस दर्ज कराने की बात कही.

इसे भी पढ़ें : जेबीवीएनएल ने नहीं किया बकाये का भुगतान तो 25 फरवरी से 50 प्रतिशत बिजली देगा डीवीसी

Telegram
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
Close