Education & CareerJharkhandLead NewsRanchi

60 फीसदी सिलेबस पर ही होगी मैट्रिक और इंटर की परीक्षा

  • मुख्यमंत्री ने सिलेबस कटौती पर लगायी मुहर, औसतन 40 प्रतिशत तक हुआ सिलेबस कम

Ranchi: मैट्रिक और इंटर की परीक्षा में अब सिर्फ 60 प्रतिशत सिलेबस से ही प्रश्न पूछे जाएंगे. सभी विषयों में औसतन 40 प्रतिशत सिलेबस की कमी की गयी है. गुरुवार को मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने इस पर अपना अनुमोदन देते हुए फाइल शिक्षा विभाग को लौटा दी है.

विभाग ने इसे जैक को भेज इसी आधार पर बच्चों की पढ़ाई सुनिश्चित करने को कहा है. मालूम हो कि विभाग ने कोविड-19 की वजह से सिलेबस कम करने का प्रस्ताव भेजा था जिसमें कहा गया था कि लगातार स्कूल बंद होने के कारण बच्चों की पढ़ाई प्रभावित हो रही है, जिस कारण सिलेबस में कटौती की जानी चाहिए. आखिरकार लंबे इंतजार के बाद सिलेबस कटौती पर मुख्यमंत्री ने मुहर लगा दी.

हर विषय के पाठ्यक्रम में अलग-अलग कटौती की गई है. मुख्य विषयों में 40 प्रतिशत की कमी है जबकि दूसरे विषयों में 30 से 35 प्रतिशत तक भी कमी की गई है. इससे पहले विभाग को शिक्षकों की टीम ने विषयवार पाठ्यक्रम छोटा करने का प्रस्ताव दिया था. 18 शिक्षकों ने जहां नौवीं-10वीं के पाठ्यक्रम को छोटा किया था, वहीं 24 शिक्षकों ने 11वीं-12वीं के सिलेबस में कटौती की थी.

इसे भी पढ़ें:Update : दो भाइयों की हत्या का आरोप लगा रोड जाम कर किये ग्रामीणों पर पुलिस ने बरसायी लाठी

फरवरी में है मैट्रिक-इंटर की परीक्षाएं

अगले वर्ष 2021 की फरवरी में जैक की मैट्रिक और इंटरमीडिएट की परीक्षाएं होंगी. अभी तक कटौती पर कोई ठोस निर्णय नहीं हो पाने की वजह से विद्यार्थियों में काफी बेचैनी थी जिस कारण वे सिलेबस के अनुरूप अपनी पढ़ाई नहीं कर पा रहे थे. सिलेबस छोटा होने के बाद इसकी जानकारी छात्र-छात्राओं को जैक के माध्यम से दी जाएगी. जैक सभी स्कूलों को इस संबंध में दिशा-निर्देश जारी करेगा.

इसे भी पढ़ें: दीपावली और छठ का जश्न हो सकता है फीका, बाबूलाल ने कहा- रेल सेवा शुरू कराने के बजाय नींद में है राज्य सरकार

60 प्रतिशत सिलेबस के आधार पर ही अपलोड होंगे मॉडल प्रश्न पत्र

नए सिलेबस के अनुसार ही जैक अपने वेबसाइट पर मॉडल प्रश्न पत्र अपलोड करेगा. मॉडल प्रश्न पत्र इसी माह से वेबसाइट पर अपलोड किए जा सकते हैं. इसके आधार पर ही वह परीक्षा की तैयारी कर सकेंगे. किसी प्रकार की शंका होने पर स्कूल में आकर शिक्षकों से समाधान करवा सकेंगे.

इसे भी पढ़ें: हाइकोर्ट में टेरर फंडिंग मामले में सुनवाई, आरोपियों के खिलाफ पीड़क कार्रवाई पर रोक

Related Articles

Back to top button