न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

‘मैन वर्सेज वाइल्ड’ में बेयर ग्रिल्स ने इस तकनीक की मदद से की मोदी से हिंदी में बात

1,488

New Delhi: ‘मैन वर्सेज वाइल्ड’ कार्यक्रम की विशेष कड़ी देखने के बाद बहुत से लोगों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से सवाल किया कि शो के संचालक बेयर ग्रिल्स ने उनसे हिंदी में कैसे बात की? इस राज पर से मोदी ने खुद रविवार को अपने मासिक रेडियो कार्यक्रम ‘मन की बात’ में खुलासा किया. उन्होंने बताया कि जिम कॉर्बेट राष्ट्रीय उद्यान में दोनों के बीच बातचीत के लिए तकनीक का विस्तृत इस्तेमाल किया गया.

इसे भी पढ़ेंः सुरों के सुनहरे धागे बुनकर रेशम सी धुनें बनाते थे खय्याम

प्रधानमंत्री ने कहा, ‘‘ बेयर ग्रिल्स ने कान में एक बेतार उपकरण लगाया था, जब मैं बोलता था तो उपकरण तुरंत उसे अंग्रेजी में अनुवाद कर देता. मैं उनसे हिंदी में बात करता था और वह उसे अंग्रेजी में सुनते थे… इस प्रकार संवाद बहुत आसान हो गया. यह तकनीक का अद्भुत पहलू है.’’

उन्होंने बताया कि कुछ संकोच के साथ लोग उनसे पूछते कि ग्रिल्स हिंदी कैसे समझ रहे थे.

मोदी ने कहा कि लोग बड़ी उत्सुकता से पूछते, ‘‘ क्या उस कड़ी को बाद में संपादित किया गया था? इस कड़ी के लिए कितनी बार शूटिंग की गई थी? लेकिन इसमें कोई राज नहीं है. कई लोगों के दिमाग में यह सवाल है इसलिए मैं इस राज पर से पर्दा उठाता हूं. वास्तव में इसमें कोई राज नहीं है. वास्तविकता यह है कि बेयर ग्रिल्स से बातचीत के लिए तकनीक का विस्तृत इस्तेमाल किया गया.’’

इसे भी पढ़ेंः अरुण जेटली का राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार, पार्थिव शरीर पंचतत्व में विलीन

उन्होंने कहा कि कार्यक्रम के प्रसारण के बाद बड़ी संख्या में लोग जिम कॉर्बेट राष्ट्रीय उद्यान को लेकर चर्चा कर रहे हैं.

मोदी ने कहा, ‘‘ आपको प्रकृति और वन्य जीवों से जुड़े स्थलों की यात्रा करनी चाहिए, जैसे मैंने पहले कहा था और मैं जोर देता हूं कि आपको अपनी जिंदगी में पूर्वोत्तर की यात्रा करनी चाहिए.’’

इसे भी  पढ़ेंः पलामू : बकोरिया में बच्ची की पटककर हत्या के मामले में CRPF व मनिका पुलिस पर FIR

 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
क्या आपको लगता है हम स्वतंत्र और निष्पक्ष पत्रकारिता कर रहे हैं. अगर हां, तो इसे बचाने के लिए हमें आर्थिक मदद करें.
आप अखबारों को हर दिन 5 रूपये देते हैं. टीवी न्यूज के पैसे देते हैं. हमें हर दिन 1 रूपये और महीने में 30 रूपये देकर हमारी मदद करें.
मदद करने के लिए यहां क्लिक करें.-

you're currently offline

%d bloggers like this: