BiharCrime News

मधेपुरा में 65 हजार रुपये में डॉक्टर ने किया नवजात का सौदा, डीएम ने पकड़ा

Madhepura: उदाकिशुनगंज अनुमंडल अंतर्गत चौसा थाना के ठीक सामने वर्षों से चल रहे बाबा विशु राउत हॉस्पिटल में नवजात बच्चों की खरीद बिक्री का मामला सामने आया है. गुप्त शिकायत के आधार पर जिला अधिकारी श्याम बिहारी मीणा के द्वारा गठित टीम में अस्पताल में छापा मारकर संचालक और चिकित्सक डॉ रिंकेश कुमार रवि सहित दो लोगों को गिरफ्तार किया है और उसके बाद नर्सिंग होम को सील कर दिया.

जिला प्रशासन के कार्रवाई के बाद बच्चों के खरीदने के जुड़े बड़े रैकेट का पर्दाफाश किया गया है. दरअसल डीएम को इस बात की शिकायत मिली थी जिसके बाद जिला प्रशासन के एक अधिकारी सादे लिबास में नवजात बच्चे की खरीदारी के लिए नर्सिंग होम पहुंचे.

इसे भी पढ़ें :भारी बारिश के कारण तेनुघाट डैम के 6 गेट खोले गये, दामोदर नदी उफान पर

advt

अधिकारी ने संचालक और चिकित्सक डॉ रिंकेश कुमार रवि से नवजात की सौदे को लेकर बातचीत की. संचालक चिकित्सक ने नवजात की कीमत 80 हजार बताया, तोलमोल के बाद चिकित्सक ने 65 हजार रुपये में डील फाइनल कर दी. अधिकारी रुपये लेकर आए जिसके बाद बच्चे को चिकित्सा के द्वारा दिया गया, इसके बाद प्रशासन की पूरी टीम पहले से ही सक्रिय थी काम होते ही छापेमारी शुरू कर दी गई. छापेमारी के दौरान टीम ने नवजात बच्चा और 65 हजार रुपये चिकित्सक से बरामद किया इसके बाद प्रशासन ने चिकित्सक और उसके दो सहयोगी को गिरफ्तार कर लिया साथ-साथ नर्सिंग होम को सील कर दिया.

अनुमंडल पुलिस उपाधीक्षक सतीश कुमार ने बताया कि बाबा विशु राउत हॉस्पिटल में कई महीनों से बच्चों की खरीद-फरोख्त की जा रही थी. खरीद बिक्री में अधिकतर वैसे बच्चे शामिल थे जो अविवाहित महिला के होते थे उसी बच्चे को चिकित्सक के द्वारा लोगों से मनचाहा रुपये लेकर बेच दिया जाता था.

एसडीपीओ के अनुसार बच्चे की खरीद बिक्री मामले में कई और लोग भी शामिल हो सकते हैं जिसकी पुलिस जांच करेगी. नर्सिंग होम में लगे सीसीटीवी फुटेज को भी खंगाला जा रहा है.

इसे भी पढ़ें :डायन कुप्रथा पीड़ित महिलाओं को एक माह में सरकारी योजनाओं का लाभ दिलाने का निर्देश

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: