Crime NewsJharkhandLead NewsRanchiTOP SLIDER

झारखंड में विधायकों की खरीद फरोख्त मामले में रांची के बड़े होटल में छापेमारी, 4 लोग हिरासत में !

पकड़े गए लोगों को गुप्त जगह पर रख कर पुलिस कर रही है पूछताछ

Ranchi :  रांची के बड़े होटलों में गुरुवार और शुक्रवार की देर रात  सरकार गिराने की साजिश को लेकर राजधानी के एक बड़े होटल में छापेमारी हुई है. इस दौरान पुलिस ने तीन से चार लोगों को पकड़ा है.

रांची पुलिस ने गोपनीय तरीके से यह कार्रवाई की. कार्रवाई से पूर्व टीम में मौजूद लोगों को सख्त हिदायत थी कि किसी तरह से सूचना बाहर न जाये. यह पूरा मामला विधायकों की खरीद फरोख्त से जुड़ा हुआ है. खुफिया एजेंसी की सूचना पर रांची पुलिस की स्पेशल टीम ने कार्रवाई करते हुए लोगों को पकड़ा है. पकड़े गए लोगों से गुप्त जगह पर रख कर पूछताछ चल रही है.

रांची पुलिस को खुफिया एजेंसियों से सूचना मिली थी कि राज्य में कुछ लोग सरकार के खिलाफ साजिश कर रहे हैं. सूचना के आधार पर रांची पुलिस की टीम ने काफी गोपनीय तरीके से रांची के बड़े होटलों में छापेमारी की.

advt

इसे भी पढ़ें :बिजली चोरी के खिलाफ अभियान, 782 लोगों से वसूला 154 .48 लाख का जुर्माना

लोअर बाजार इलाके में है होटल

सूत्रों के मुताबिक, रांची के लोअर बाजार इलाके के एक बड़े होटल से पुलिस ने तीन-चार लोगों को हिरासत में लिया है. सभी के पास से नकद रुपये की बरामदगी भी हुई है. इसके बाद उन्हें गुप्त ठिकाने पर रखकर पूछताछ की जा रही है. लेकिन इस बात की पुष्टि झारखंड पुलिस के किसी भी अधिकारी ने नहीं की है. हालांकि, यह बात सच है कि शुक्रवार की पूरी रात रांची पुलिस अलग-अलग होटलों की तलाशी लेती रही.

इसे भी पढ़ें :पलामू : बिन ब्याही मां बनी आदिवासी युवती के बच्चे की उज्जवला केंद्र में की गयी छठी, उज्जवल कुमार रखा गया बच्चे का नाम

होटलों की तलाशी को लेकर यह बताया गया कि यह रुटीन चेक था.कई खबर यह भी है कि विधायकों के संबंध में कोई साजिश रची गई है. यह जानकारी पुलिस के हत्थे चढ़े लोगों ने दी है. पूछताछ में आए तथ्यों के आधार पर पुलिस मामले की पड़ताल कर रही है. शुक्रवार को पुलिस ने इस मामले में राज्य के अलग-अलग हिस्सों में जाकर जांच भी की है. पुलिस के द्वारा जल्द ही मामले का खुलासा भी किया जा सकता है.

इसे भी पढ़ें :गिरिडीह : बंद पड़े ब्रह्मंडीहा ओपन कास्ट खदान से आंध्र प्रदेश की कंपनी करेगी कोयला उत्पादन, करीब एक दशक से बंद था खदान

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: