DhanbadJharkhandLead News

झरिया में बिजली-पानी को लेकर हाहाकार, JBVNL निदेशक से मिलीं विधायक पूर्णिमा सिंह

Dhanbad: बिजली संकट से झरिया के लोगों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है. साथ ही आए दिन बिजली की समस्या से झरिया शहर व इसके आसपास क्षेत्रों में गंभीर जल संकट भी उत्पन्न हो गया है. छह लाख से अधिक लोगों में पानी और बिजली के लिए हाहाकार मचा है. इससे झमाडा व बिजली अधिकारियों के प्रति लोगों में काफी आक्रोश है. गुरवार को जामाडोबा आरएस फीडर से बिजली की आपूर्ति लगातार बाधित रहने से शुक्रवार को झरिया व आसपास के क्षेत्रों में जलापूर्ति ठप हो गई.

झरिया में व्याप्त बिजली संकट से निदान को लेकर आज शुक्रवार को रांची में झारखंड बिजली वितरण निगम लिमिटेड के निदेशक (वितरण एवं परियोजना) के के वर्मा से सतारूढ़ दल की सचेतक झरिया विधायक पूर्णिमा नीरज सिंह मिलीं. और एक बैठक कर समस्याओं पर गंभीरता से चर्चा की. बैठक के दौरान विधायक पूर्णिमा नीरज सिंह के साथ महागामा विधायक दीपिका पांडेय सिंह भी उपस्थित थीं.

इसे भी पढे़ं:गांव मजबूत होगा तभी राज्य मजबूत होगाः हेमंत सोरेन

ram janam hospital
Catalyst IAS

सचेतक पूर्णिमा नीरज सिंह ने झरिया में उत्पन्न बिजली समस्याओं पर चर्चा करते हुए झारखंड बिजली वितरण निगम लिमिटेड के निदेशक (वितरण एवं परियोजना) के के वर्मा से झरिया अंतर्गत सोना पट्टी, दाल पट्टी, पंजाबी मोहल्ला, कोयरीबांध, बलियापुर स्टैंड, सतमोडवा सहित पूरे क्षेत्र में जर्जर विद्युत पोल, तार को तत्काल बदलने की मांग की. जर्जर कंडक्टर, ACSR/ LT XLPE AB केबल, बिजली सप्लाई हेतु लक्ष्मणिया मोड़ से कोइरीबांध टीना गोदाम में PSC पोल लगाने का कार्य को शुरू कराने की मांग रखी.

The Royal’s
Pushpanjali
Sanjeevani
Pitambara

झरिया विधायक पूर्णिमा नीरज ने लक्ष्मणिया मोड़ अवस्थित जर्जर स्विच रूम का नवीनीकरण कार्य की मांग रखा. तथा जामाडोबा सबस्टेशन में ट्रांसफार्मर की क्षमता 05 MVA से बढ़ाकर 10 MVA करने सम्बंध में प्रस्ताव रखा गया, जिसपर निदेशक ने कहा की नवंबर तक उक्त ट्रांसफार्मर की क्षमता बढ़ा दिया जायेगा.

इसे भी पढे़ं:घायल नदीम को बेहतर इलाज के लिए दिल्ली मेदांता भेजा गया

विधायक ने कहा कि झरिया बलियापुर पथ का निर्माण कार्य प्रगति पर है, जिसमे उक्त पथ पर अवस्थित विद्युत पोल के कारण पथ निर्माण कार्य में परेशानी आ रही है, अतः जनहित में पोल को शिफ्ट करवाया जाय. और डीएमएफटी से झरिया अंतर्गत निर्बाध विद्युत आपूर्ति हेतु उपायुक्त धनबाद को प्रस्ताव भेजने की चर्चा हुई. जिसपर निदेशक ने कहा की जनहित में डीएमएफडी की राशि का उपयोग क्षेत्र में विद्युत कार्य हेतु किया जा सकता है.

क्षेत्र में आवश्यकतानुसार ट्रांसफार्मर बदलने का कार्य पर भी चर्चा की गई. बैठक के दौरान निदेशक ने धनबाद के विद्युत महाप्रबंधक अजीत कुमार को विधायक द्वारा बैठक में उठाए गए समस्याओं के निदान हेतु दूरभाष पर निर्देशित किया गया.

इसे भी पढे़ं:कब जागेगी जमशेदपुर पुलिस? मासूम बेटे और नाबालिग बेटी के साथ हैवानियत के बाद अब अंधी मां को मिल रही रेप की धमकी

Related Articles

Back to top button