न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

गौरी लंकेश की हत्या के पीछे सनातन संस्था,  एसआईटी ने कोर्ट में अतिरिक्त आरोप पत्र दाखिल किया

खबरों के अनुसार विशेष जांच दल ने अदालत में शुक्रवार को नौ हजार 235 पन्नों का आरोप पत्र दाखिल किया है. आरोप पत्र के अनुसार  सतातन संस्था के भीतर के एक नेटवर्क ने गौरी लंकेश को निशाना बनाया था.

25

 Bengaluru : पत्रकार गौरी लंकेश हत्याकांड को लेकर विशेष जांच दल (एसआईटी) ने बेंगलुरू की एक अदालत में  अतिरिक्त आरोप पत्र दाखिल कर हिंदू सगंठन सनातन संस्था पर आरोप लगाया है. खबरों के अनुसार विशेष जांच दल ने अदालत में शुक्रवार को नौ हजार 235 पन्नों का आरोप पत्र दाखिल किया है. आरोप पत्र के अनुसार  सतातन संस्था के भीतर के एक नेटवर्क ने गौरी लंकेश को निशाना बनाया था. गौरी की हत्या की साजिश पांच साल से रची जा रही थी. हत्याकांड को लेकर विशेष लोक अभियोजक एस बालन ने कहा कि मृतक और हत्यारे के बीच निजी या कोई अन्य रंजिश नहीं थी. उन्हें इसलिए मारा गया क्योंकि वह एक खास विचारधारा को मानती थीं, उसके बारे बोलती और लिखती थीं. बता दें कि विशेष जांच दल ने इस मामले की जांच आगे भी जारी रखने की स़्वीकृति मांगी है. इससे पूर्व मई में जांच दल ने इस मामले में पहला आरोप पत्र दाखिल किया था.

वाम समर्थक और हिंदुत्व विरोधी विचारों के लिए प्रसिद़ध 55 वर्षीय गौरी लंकेश की पिछले साल पांच सितंबर को उनके घर के बाहर गोली मारकर हत्या कर दी गयी थी.  सिद्धारमैया सरकार ने मामले की जांच के लिए विशेष जांच दल का गठन किया था.  एसआईटी के सूत्रों ने बताया कि इस मामले में शूटर परशुराम वाघमारे और हत्या के मास्टरमाइंड अमोल काले, सुजीत कुमार उर्फ प्रवीन और अमित देगवेकर समेत 18 लोग आरोपी हैं. इसी गैंग पर बुद्धिजीवियों एमएम कलबुर्गी, नरेंद्र दाभोलकर और गोविंद पानसरे की हत्या में शामिल होने का भी संदेह है.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: