न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

चेक देने के एवज में छात्रों से मांगा कमीशन, अभिभावकों ने किया हंगामा

117

Bermo(Bokaro) :  बेरमो अनुमंडल के कसमार स्थित प्रखंड मुख्यालय के समीप बहुद्देशीय भवन में शनिवार को अभिभावकों ने हंगामा किया.  स्वयंसेवी संस्था जिया चैरिटेबल ट्रस्ट चेक देने के बदले कमीशन मांग रही थी. जिसके बाद अभिभावकों ने हंगामा शुरू कर दिया. बाल शिक्षा अभियान के तहत स्कूलों में अध्यनरत बच्चों के बीच चेक देना था. हंगामा के बाद अभिभावको ने कार्यक्रम का विरोध करते हुए चेक लेने से इंकार करते हुए कार्यक्रम का बहिष्कार करते हुए बाहर निकल गये. इस संबंध में बच्चों के अभिभावकों का कहना था कि संस्था के पदाधिकारियों द्वारा 13 हजार 500 रुपया का चेक देने के एवज में 4 हजार 500 रुपया कमीशन के रुप में पहले मांगा जा रहा था. संस्था के सदस्यों ने पूछे जाने पर कहा कि जो रुपया लिया जा रहा है उसे उपर से नीचे तक बांटना पड़ता है. इसलिए चेक देने के एवज में रुपयों की मांग की गयी.

mi banner add

इसे भी पढ़ें- पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी की सुरक्षा से खिलवाड़ कर रही राज्य सरकार : झाविमो

क्या है पूरा मामला

रांची की एक स्वयंसेवी संस्था द्वारा कसमार प्रखंड के प्रत्येक पंचायतों में बाल शिक्षा अभियान के तहत स्कूलों का संचालन किया जा रहा है. जिसमें प्रत्येक स्कूलो में संस्था द्वारा एक -एक शिक्षकों की बहाली बच्चों को पढ़ाने के लिये किया जा रहा है. संस्था द्वारा प्रत्येक माह ऐसे शिक्षकों को 13 सौ रुपया दे रही है. बताया जाता है कि इन्हीं शिक्षकों के द्वारा प्रत्येक बच्चों से छात्रवृति के नाम पर दौ-दो सौ रुपये की वसूली की जा रही थी, जिसमें बच्चों को 13 हजार 500 रुपया छात्रवृति देने की बात कही गयी थी.

Related Posts

गिरिडीह : बार-बार ड्रेस बदलकर सामने आ रही थी महिलायें, बच्चा चोर समझ लोगों ने घेरा

पुलिस ने पूछताछ की तो उन महिलाओं ने खुद को राजस्थान की निवासी बताया और कहा कि वे वहां सूखा पड़ जाने के कारण इस क्षेत्र में भीख मांगने आयी हैं

शनिवार को इसी एवज में संस्था द्वारा कसमार बहुद्देशीय भवन में छात्रवृति के रूप में चेक का वितरण किया जा रहा था. चेक वितरण करने के एवज में बच्चों के अभिभावकों से साढ़े चार हजार रुपया कमीशन पहले देने की बात कही जा रही थी. जिसे देने से लोगों ने इंकार करते हुए हंगामा करते हुए चेक लेने से इंकार कर दिया.

 

कोई भी गांव में संस्था द्वारा बाल शिक्षा अभियान के तहत स्कूल चलाये जाने की जानकारी मुझे नहीं है. संस्था के द्वारा चेक देने के एवज में साढ़े चार हजार रुपया कमीशन की मांग की जा रही है जो कि गलत है. उन्होंने कहा कि अभिभावकों के द्वारा लिखित शिकायत मिलती है तो बोकारो उपायुक्त को कार्रवाई के लिए लिखा जाएगा.

रामनारायण साहू, बीइइओ,  कसमार

 

 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: