DeogharJharkhand

देवघर में ठेकेदार की मनमानी, कालीकरण के बदले कर दिया पीसीसी पथ निर्माण, जांच का आदेश

Deoghar: देवघर नगर निगम सहित सरकार के कई विभागों में काम करने वाले एक संवेदक अमानत में खयानत करने में माहिर हैं. इसको लेकर वे समय-समय पर चर्चा में भी बने रहते हैं. विभागीय मिलीभगत से उक्त संवेदक विकास योजनाओं का कार्य आवंटित करवाने के लिए तरह-तरह के हथकंडे भी अपनाते रहते हैं. इन्हें कई दफा जांच का भी सामना करना पड़ा है. उक्त संवेदक कालीकरण पथ के बदले विभागीय अधिकारियों के मौखिक आदेश पर पीसीसी पथ का निर्माण शहर के वार्ड नंबर 27 के बंधा में किए जाने को लेकर चर्चा में हैं. शिकायत के आधार पर सरकार के अवर सचिव ने उपायुक्त को जांच का निर्देश दिया. उपायुक्त ने देवघर नगर निगम को जांच कर रिपोर्ट देने का निर्देश दिया है. फिलहाल जांच जारी है, लेकिन सच तो सच ही होता है. बताया जाता है कि बिना सरकार की स्वीकृति के एनआईटी 31के तहत 2017-18 व 18- 19 के तहत निकाली गई निविदा के अनुसार वार्ड नंबर 27 में पथ कालीकरण कार्य का निविदा निकाला गया था. जो संदीप इंटरप्राइजेज को आवंटित हुआ था. प्राक्कलन में कालीकरण पथ बनाए जाने का प्रावधान किया गया था. संवेदक द्वारा इसी के तहत एकरारनामा भी किया गया था. लेकिन विभागीय मिलीभगत से 87 लाख रुपए की लागत से बनने वाली उक्त पथ का पीसीसी करण कार्य कर दिया गया. जिसकी शिकायत पुनसिया निवासी अरविंद दास ने सरकार को पत्र लिखकर की थी. जिसके आलोक में अवर सचिव ने जांच का आदेश दिया है. इतना ही नहीं बंधा व पुनसिया तालाब सुंदरीकरण कार्य में भी अमानत में खयानत करने को लेकर उक्त संवेदक चर्चा में बना हुआ है. बताया जाता है कि थाना कांड संख्या 292/ 21 के तहत दर्ज मुकदमे में उक्त संवेदक आरोपी रह चुका है और 20 सितंबर 22 को सुलह के आधार पर न्यायालय द्वारा बरी हुआ है. विभागीय सूत्रों का कहना है कि इस दौरान कई कार्य वह विभाग की आंखों में धूल झोंक कर लेता रहा है. जिसकी जांच होना भी जरूरी है.

संवेदक का निबंधन रद्द करने के लिए अभियंता प्रमुख को लिखा पत्र

भवन निर्माण प्रमंडल के कार्यपालक अभियंता ने चर्चा में रहने वाला संदीप इंटरप्राइजेज का पार्टनर कमल कांत राय उर्फ अजीत राय द्वारा निविदा के दौरान कार्यालय में अभद्र भाषा का प्रयोग कर धमकी देने को लेकर अभियंता प्रमुख को 28 सितंबर को 2022 को पत्र भी लिखा गया है. जिसमें कार्यपालक अभियंता ने अभियंता प्रमुख से उनके अभद्र व्यवहार देखते हुए निबंधन संख्या 33893010222 को रद्द करने का आग्रह किया है. अभियंता प्रमुख को लिखे पत्र में उन्होंने कार्यपालक अभियंता ने कहा है कि 23 सितंबर 2022 को निविदा परिमाण विपत्र बिक्री की जा रही थी. इस दौरान संदीप इंटरप्राइजेज के पार्टनर कमल कांत राय उर्फ अजीत राय कार्यालय कक्ष में घुसकर अभद्र भाषा का प्रयोग कर गाली गलौज करने लगा. मौके पर उपस्थित कार्यालय कर्मी व अन्य संवेदक को द्वारा उन्हें समझाने का प्रयास किया गया तो वह उसे भी उलझ गए. पत्र में उन्होंने कहा है कि मुझे जलील व कार्यालय कर को बर्बाद करने की धमकी संवेदक ने दी है. कार्यपालक अभियंता अभियंता प्रमुख से कार्यकलाप व व्यवहार को ध्यान में रखते हुए  अनुशासनहिन संवेदक करार देते हुए कार्रवाई करने का आग्रह किया है.

इसे भी पढ़ें: देवघर: बालू माफिया के सामने पुलिस प्रशासन फेल, अवैध उठाव से बदल रहा नदियों का स्वरूप

Related Articles

Back to top button