JharkhandRanchi

RIMS में 2 के बजाये 4 साल में भी एजेंसी ने नहीं बनाया सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट, ब्लैकलिस्ट करने की तैयारी

विज्ञापन
Advertisement

Ranchi : राज्य के सबसे बड़े अस्पताल रिम्स, रांची में सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट बनाने की योजना पिछले 4 सालों से अटकी है. पेयजल एवं स्वच्छता विभाग ने इसकी योजना 2013-14 में बनायी थी. दिल्ली की कंपनी इन्वायरो इन्फ्रा इंजीनियर्स को काम दिया गया था. 2016 तक इसे पूरा करना था. कंपनी ने 2019 तक इसमें काम शुरू किया. अब वह कंपनी गायब है. विभाग ने कंपनी को ब्लैक लिस्टेड किये जाने की वार्निंग जारी की है.

इसे भी पढ़ें – Corona Update : कोडरमा में 11, रामगढ़ में 4, देवघर में 5, पाकुड़ में 5 और गुमला में 1 नया कोरोना पॉजिटिव केस, कुल आंकड़ा पहुंचा 3082

बगैर इनफॉर्मेशन कंपनी हुई गायब

पेयजल एवं स्वच्छता विभाग (गोंदा डिविजन, रांची) के एक्जिक्यूटिव इंजीनियर शशि शेखर के अनुसार रिम्स में STP (Sewarage Treatment Plant) बनाये जाने की योजना थी. 2014 में इसे दिल्ली की एक एजेंसी को इस काम का जिम्मा दिया गया था. एजेंसी Enviro Infra Engineers Pvt Ltd (JV) को इसे 2016 तक पूरा करना था. निर्धारित समय पर यह काम नहीं हो सका था. इसके बाद कंपनी ने आगे भी कुछ काम किया. 2018 तक इस पर कुछ न कुछ काम होता रहा. पर इसके बाद से कंपनी बिना जानकारी दिये गायब है. एजेंसी को पहले भी शो कॉज जारी किया गया था. पर वह सामने नहीं आ रही.

advt

इसे भी पढ़ें – Kanke Dam : 10 एकड़ से अधिक जमीन पर हो चुका है कब्ज़ा, 12 जुलाई से शुरू होगा कांके डैम बचाओ आंदोलन

पहले भी कंपनी को काम के लिए जारी हुआ है लेटर

पेयजल विभाग ने इसी साल 16 जून को इन्वायरो इन्फ्रा इंजीनियर्स को एल लेटर (पत्रांक 501) जारी किया था. इसमें उसे बचे हुए काम को पूरा करने को कहा गया था. बावजूद इसके कंपनी ने कोई इंटरेस्ट नहीं दिखाया.

15 दिनों का मिला है आखिरी समय

विभाग ने एजेंसी को 23 जुलाई तक बचे हुए काम को पूरा करने को कहा है. पेपर के माध्यम से एजेंसी के लिए इस संबंध में सूचना जारी की गयी है. कहा गया है कि बचे हुए काम को पूरा करने को संबंधित सहायक अभियंता (E.E) और जे.इ से समन्वय स्थापित करें. अंतिम मापी लेकर बिल दिया जाये. ऐसा नहीं किये जाने पर एडवांस पैसे और जमानत राशि जब्त कर ली जायेगी. साथ ही एजेंसी को काली सूची में डाल दिया जायेगा.

इसे भी पढ़ें – दो लाख प्रवासी मजदूरों को मिला मनरेगा योजना में काम, 7.30 लाख श्रमिक कर रहे एक लाख योजनाओं में काम

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
Close
%d bloggers like this: