न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

2019 में दुनियाभर में 49 #journalists की हत्या किये जाने की खबर, औसतन हर साल 80 पत्रकार मारे गये

आरएसएफ के अनुसार विश्वभर में 57 पत्रकारों को बंदी बना कर रखा हुआ है. इनमें से अधिकतर सीरिया, यमन, इराक और यूक्रेन में बंदी हैं. 

40

Paris : विश्वभर में वर्ष 2019 में 49 पत्रकारों की हत्या किये जाने की खबर है. बताया गया कि यह आंकड़ा पिछले 16 वर्ष में सबसे कम है.  पेरिस स्थित निगरानी संगठन रिपोर्टर्स विदाउट बॉर्डर्स (आरएसएफ) के अनुसार लोकतांत्रिक देशों में पत्रकारों की हत्या की घटनाएं चिंता का सबब है.  रिपोर्ट के अनुसार अधिकतर पत्रकार यमन, सीरिया और अफगानिस्तान में संघर्ष की रिपोर्टिंग के दौरान मारे गये हैं.  यानी पत्रकारिता एक खतरनाक पेशा है.

इसे भी पढ़ें : #CAA को लेकर SC का केंद्र को नोटिस, कानून की संवैधानिक वैधता की होगी जांच फिलहाल रोक से इनकार

Aqua Spa Salon 5/02/2020

पत्रकारों की हत्या की घटनाएं खतरे की घंटी

आरएसएफ  की रिपोर्ट कहती है कि पिछले दो दशक में औसतन हर साल 80 पत्रकार मारे गये हैं. आरएसएफ प्रमुख क्रिस्टोफ डेलोयर मानते हैं कि  शांतिपरस्त देशों में पत्रकारों की हत्या की घटनाएं खतरे की घंटी बजा रही है.  आंकड़े बताते हैं कि मेक्सिको में ही 10 पत्रकार मारे गये हैं.  क्रिस्टोफ  के अनुसार लातिन अमेरिका में कुल 14 पत्रकार मारे गये हैं और यह पश्चिम एशिया की तरह ही  डेंजर जोन बन गया है.

हालांकि डेलोयर ने कहा कि संघर्षग्रस्त इलाकों में आंकड़ों में आयी कमी खुशी की बात है,  लेकिन लोकतांत्रिक देशों में अधिकतर पत्रकारों को उनके काम के लिए निशाना बनाया जा रहा है. यह लोकतंत्र के लिए एक बड़ी चुनौती है.

इसे भी पढ़ें : आर्थिक सुस्ती के बीच #GST काउंसिल की बैठक आज, हो सकते हैं बड़े फैसले

2019 में  389 पत्रकारों को जेल में डाल दिया गया

पिछले महीने आयी यूनेस्को की  रिपोर्ट में  बताया गया था कि पिछले दो वर्ष में 55 फीसदी पत्रकारों की हत्या संघर्ष रहित क्षेत्रों में हुई जो राजनीति, अपराध और भ्रष्टाचार पर रिपोर्टिंग के लिए पत्रकारों को निशाना बनाने की बढ़ती प्रवृत्ति को दिखाता है. यूनेस्को के अनुसार 2006 से 2018 तक दुनिया भर में 1,109 पत्रकारों की हत्याओं के लिए जिम्मेदार लोगों में से करीब 90 फीसदी को दोषी करार नहीं दिया गया.  2017-2018 में 55 फीसदी पत्रकारों की मौत संघर्ष रहित क्षेत्रों में हुई.

आरएसएफ की रिगोर्ट में यह भी दर्ज है कि  कई पत्रकार सलाखों के पीछे हैं. 2019 में  लगभग 389 पत्रकारों को जेल में डाल दिया गया, यह  पिछले साल की तुलना में 12 प्रतिशत अधिक है.  इनमें से आधे चीन, मिस्र और सऊदी अरब की कैद में  हैं. आरएसएफ के अनुसार विश्वभर में 57 पत्रकारों को बंदी बना कर रखा हुआ है. इनमें से अधिकतर सीरिया, यमन, इराक और यूक्रेन में बंदी हैं.

Gupta Jewellers 20-02 to 25-02

इसे भी पढ़ें : #SC ने कुछ राज्यों में हिंदुओं को अल्पसंख्यक करार देने की मांग वाली याचिका खारिज की, कहा, यह काम सरकार का है

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like