JharkhandLead NewsNEWSRanchi

1 लाख 77 हजार स्वयं सहायता समूह में सिर्फ 17 फीसदी को रोजगार के लिए मिला लोन

Ranchi : झारखंड के ग्रामीण क्षेत्र में 1,77000  स्वयं सेवा समूह का गठन कर दिया गया है. इन महिला समूहों को रोजगार के लिए ऋण देने का लक्ष्य रखा गया है, अभीतक इनमें से 3,0372 एसएचजी  के बीच ही ऋण वितरित किया गया है. यानि कुल लक्ष्य से झारखंड में इस वित्तीय वर्ष 2022-23 के तीन माह में 17 फीसदी एसएचजी को ऋण मुहैया कराया गया है. यह ऋण विभिन्न बैंकों के माध्यम से प्रखंड स्तर पर शिविर लगाकर वितरित किया गया है. ग्रामीण विकास विभाग के अंतर्गत झारखंड स्टेट प्रमोशन सोसाइटी के अंतर्गत सारे एसएचजी का गठन किया गया. एक समुह में 10-20 महिलाओं को सदस्य के रूप में रखा गया है, इन्हें बैंको से लोन मुहैया कराके स्वरोजगार से जोड़ने का लक्ष्य रखा गया है.

प्रत्येक जिले में अभी विभिन्न एसएचजी के बीच आठ-दस करोड़ रुपये तक की राशि काफी कम ब्याज में दी गयी है. इनमें कुछ वैसे भी हैं जिन्होंने पहले भी ऋण लिया था पर समय से चुकता करने के कारण फिर से उन्हें लोन दिया गया है. सबसे अधिक लोन कोडरमा, पाकुड़ बोकारो, चतरा, गोड्डा जिलों में वितरित किया गया है. रांची में सिर्फ 16 फीसदी लोन का वितरण हुआ है. जामताड़ा, दुमका, देवघर आदि जिलों में लोन वितरण की स्थिति ठीक नहीं है. लोन समय पर नहीं मिलने की वजह बैंक की रुचि नहीं लेना और एसएचजी ग्रुप द्वारा लोन के आवेदन नहीं देना भी है.

जिला एसएचजी की संख्या,जिन्हें लोन वितरित करना है,लक्ष्य एसएचजी की संख्या, जिन्हें लोन दिया गया प्रतिशत
बोकारो 10108 2677 26
चतरा 7094 1665 23
देवघर 3023 332 11
धनबाद 5268 1185 22
दुमका 6481 668 10
गढ़वा 6505 1256 19
गिरिडीह 13286 1606 12
गोड्डा 5495 723 13
गुमला 6344 1409 22
हजारीबाग 11565 2276 20
जामताड़ा 3305 310 9
खूंटी 4281 910 21
कोडरमा 5046 1869 37
लातेहार 5800 1031 18
लोहरदगा 3415 679 20
पाकुड़ 6339 1611 25
पलामू 13476 2832 21
प.सिंहभूम 9288 937 10
पूर्वी सिंहभूम 9785 1288 13
रामगढ़ 6627 1262 19
रांची 16853 2691 16
साहिबगंज 5373 561 10
सरायकेला-खरसावां 7334 394 5
सिमडेगा 4909 200 4
कुल 177000 30372 17
ram janam hospital
Catalyst IAS

इसे भी पढ़ें: टीना डाबी से तलाक के बाद डॉ. महरीन काजी से शादी के बंधन में बंधेंगे अतहर आमिर

The Royal’s
Sanjeevani
Pushpanjali
Pitambara

Related Articles

Back to top button