NationalWorld

इमरान ने माना, मुंबई का 26/11 हमला पाकिस्तान के लश्कर-ए-तैयबा ने कराया

 Islamabad : 2008 में मुंबई हमले 26/11 को पाकिस्तानी आतंकवादी समूह लश्कर-ए-तैयबा ने अंजाम दिया था. पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने इसे पहली बार स्वीकार किया है.  बता दें कि इमरान खान ने वाशिंगटन पोस्ट को दिये एक इंटरव़्यू में यह बात स्वीकार की.  जान लें कि पाकिस्तान का प्रधानमंत्री बनने के बाद इमरान खान का किसी विदेशी मीडिया को दिया गया यह पहला साक्षात्कार है. अपने इंटरव़्यू में खान ने कहा कि मैंने अपनी सरकार से मामले की स्थिति का पता लगाने के लिए कहा है.  कहा कि इस मामले को सुलझाया जाना हमारे हित में है, क्योंकि यह आतंकवाद का मामला है.  इमरान ने कहा कि उनकी सरकार भारत के साथ तल्ख संबंधों को सामान्य बनाने की दिशा में प्रयास कर है. खान के अनुसार उनकी इच्छा है कि पाकिस्तान के अमेरिका के साथ भी उसी तरह के संबंध हों, जैसे चीन के साथ हैं.  इस क्रम में इमरान ने कहा कि वे कोई ऐसा संबंध नहीं रखना चाहते, जहां पाकिस्तान को एक किराये की बंदूक की तरह समझा जाये.

पाकिस्तान काे एक किराये की बंदूक की तरह इस्तेमाल किया जाये

अपनी बात पर जोर दिया कि मैं कभी ऐसा संबंध कायम नहीं रखना चाहूंगा, जिसमें पाकिस्तान को एक किराये की बंदूक की तरह इस्तेमाल किया जाये. हमें पैसे देकर किसी और की लड़ाई लड़ने के लिए कहा जाये. यह पूछे जाने पर कि वह अमेरिका के साथ कैसा संबंध कायम रखने के पक्षधर हैं, उन्होंने कहा कि उदाहरण के लिए चीन के साथ हमारे संबंध एक-आयामी नहीं है, बल्कि यह दो देशों के बीच एक व्यापारिक संबंध है.  हम अमेरिका के साथ ऐसे ही संबंध चाहते हैं. खान ने अपने अमेरिका विरोधी होने संबंधी धारणा को खारिज करते हुए कहा कि अमेरिकी नीतियों के प्रति असहमति उन्हें अमेरिका विरोधी नहीं ठहरा सकती. इमरान ने आतंकवादियों के लिए पाकिस्तान में सुरक्षित ठिकाना होने संबंधी अमेरिका के आरोपों को भी खारिज किया. कहा कि सुरक्षा बलों ने उन्हें इस तथ्य से अवगत कराया है तथा अमेरिका से समय-समय पर बात किये जाने की जानकारी दी है.

Telegram
Advertisement

Related Articles

Back to top button
Close