West Bengal

चीन से टकराव के बाद से कोलकाता में बंद है आयात

Kolkata : लद्दाख की गलवान घाटी में भारत-चीन के सैनिकों के बीच हिंसक झड़प के बाद पूरे देश के साथ-साथ राजधानी कोलकाता के कारोबारियों ने भी चीन से आयात फिलहाल बंद कर दिया है. कोलकाता के मध्य में चांदनी चौक मार्केट है जो इलेक्ट्रॉनिक सामानों की बिक्री का हब है. यहां चीनी सामानों की 70 फ़ीसदी बिक्री होती है. इनमें खिलौने, लाइट्स, इलेक्ट्रॉनिक गेजेट्स आदि शामिल हैं.

इसे भी पढ़ें – Corona Update : कोडरमा में 11, रामगढ़ में 4, देवघर में 5, पाकुड़ में 5, रांची में 2 और गुमला में 1 नया कोरोना पॉजिटिव केस, कुल आंकड़ा पहुंचा 3084

बंद है आयात

अब बताया गया है कि 15 और 16 जून की रात जब चीन के सैनिकों के साथ झड़प हुई थी और भारत के 20 जवान शहीद हुए थे उसके बाद से ही आयात बंद कर दिया गया था, जो आज तक बरकरार है. कलकत्ता सीमाशुल्क हाउस एजेंट एसोसिएशन के अध्यक्ष सुजीत चक्रवर्ती ने कहा कि खिलौनों से लेकर लाइट वगैरह समेत कई रोजमर्रा के उपभोक्ता सामानों का आयात चीन से किया जाता है.

advt

लॉकडाउन की वजह से चीन के साथ साझा व्यापार पहले ही 30 से 40 फीसदी गिर गया था. अब इस संघर्ष की वजह से आयातकों ने अपने ऑर्डर रोक दिये हैं. उन्होंने कहा कि निर्यातकों ने भी अपनी चिंता जतायी है. इंजीनियरिंग निर्यात संवर्द्धन परिषद (ईईपीसी) के चेयरमैन रवि सहगल ने कहा कि इससे (संघर्ष से) चीन को इंजीनियरिंग सामान के निर्यात में भी अस्थायी बाधा आ रही है. सहगल ने कहा कि निर्यातक भुगतान की वजह से थोड़ा सा चिंतित हैं, अन्यथा निर्यातकों का व्यवहार मध्य अवधि में सामान्य रहेगा.

इसे भी पढ़ें – रिसर्च की मानें तो भारत में 2021 की सर्दियों में हर दिन 2.87 लाख लोग होंगे कोरोना पॉजिटिव

एकजुटता दिखानी जरूरी

भारत से इंजीनियरिंग सामान का आयात करनेवाले शीर्ष 25 देशों में से चीन ऊपर के दो देशों में से एक है. अप्रैल 2020 में भारत का चीन को इंजीनियरिंग निर्यात सालाना आधार पर सकारात्मक रहा है. कोलकाता बंदरगाह पर कुल जितना मालवहन किया जाता है, उसका करीब 20 फीसदी अकेले चीन के साथ व्यापार के चलते होता है. अब संघर्ष के बाद ये सारे कारोबार पूरी तरह से ठप हैं. चीन से आयात और निर्यात में जुड़े कारोबारियों का कहना है कि भले ही नुकसान हो रहा है लेकिन राष्ट्र की मजबूती के लिए फिलहाल एकजुटता जताना जरूरी है.

इसे भी पढ़ें – दो लाख प्रवासी मजदूरों को मिला मनरेगा योजना में काम, 7.30 लाख श्रमिक कर रहे एक लाख योजनाओं में काम

adv
advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button