National

सुप्रीम कोर्ट का महत्वपूर्ण आदेश, सीबीआई, ईडी, एनआईए कार्यालयों , पुलिस थानों में सीसीटीवी कैमरे लगाये जायें…

राज्य व केंद्र शासित प्रदेश यह सुनिश्चित करें कि प्रत्येक पुलिस थाने में सीसीटीवी कैमरे लगे हों. साथ ही थाने के सभी एंट्री व एग्जिट प्वाइंट, मेन गेट, सभी लॉकअप, लॉबी और रिसेप्शन एरिया में सीसीटीवी लगा होना चाहिए.

NewDelhi : केंद्र सरकार सीबीआई, प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) और राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए)  आदि के कार्यालयों में सीसीटीवी कैमरे व रिकॉर्डिंग उपकरण लगायें. यह महत्वपूर्ण आदेश सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को दिया है. SC के अनुसार जिनके पास गिरफ्तारी करने व पूछताछ करने की शक्ति है, ऐसी एजेंसियों में यह जरूरी है.

जस्टिस आरएफ नरीमन की अध्यक्षता वाली पीठ ने आदेश दिया है कि सभी राज्य व केंद्र शासित प्रदेश यह सुनिश्चित करें कि प्रत्येक पुलिस थाने में सीसीटीवी कैमरे लगे हों. साथ ही थाने के सभी एंट्री व एग्जिट प्वाइंट, मेन गेट, सभी लॉकअप, लॉबी और रिसेप्शन एरिया में सीसीटीवी लगा होना चाहिए.

इसे भी पढ़े : संयुक्त राष्ट्र महासभा का विशेष सत्र आज से, विश्व भर के नेता जुटेंगे, कोरोना पर होगा महामंथन…

सीसीटीवी व रिकॉर्डिंग उपकरण लगाना अनिवार्य है

कोर्ट के अनुसार  नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो, राजस्व इंटेलीजेंस विभाग और गंभीर धोखाधड़ी जांच कार्यालय समेत ज्यादातर जांच एजेंसियां अपने कार्यालयों में पूछताछ करती हैं. ऐसे में जहां आरोपी को रखा जाता है और उससे पूछताछ होती है, वहां सीसीटीवी व रिकॉर्डिंग उपकरण लगाना अनिवार्य है. बता दें कि इससे पूर्व सुप्रीम कोर्ट ने मानवाधिकार उल्लंघन की घटनाओं के बाद सभी थानों में सीसीटीवी लगाने का निर्देश दिया था.

इसे भी पढ़े : आरएसएस चीफ मोहन भागवत कल बिहार आयेंगे, कांग्रेस को पच नहीं रहा, , कहा, नीतीश नजर रखें…

जस्टिस आरएफ नरीमन, जस्टिस केएम जोसेफ और जस्टिस अनिरुद्ध बोस की  बेंच का फैसला

जस्टिस आरएफ नरीमन, जस्टिस केएम जोसेफ और जस्टिस अनिरुद्ध बोस की एक बेंच ने थानों में सीसीटीवी लगाने का अपना फैसला परमवीर सिंह सैनी की याचिका पर दिया है. सैनी ने अपनी याचिका में गवाहों की ऑडियो-वीडियो रिकॉर्डिंग को लेकर कोर्ट में याचिका दाखिल की थी.

सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि थानों के बाहरी हिस्से में लगने वाले सीसीटीवी कैमरे नाइट विजन वाले होने चाहिए और साथ ही सरकार से कहा है कि जिन थानों में बिजली और इंटरनेट नहीं वहां वे यह सुविधा उपलब्ध करायें. सुप्रीम कोर्ट के अनुसार हिरासत में पूछताछ के दौरान आरोपी के घायल होने या मौत होने पर पीड़ित पक्ष को शि कायत करने का अधिकार है. सीसीटीवी फुटेज से ऐसी शिकायतों की जांच में आसानी होगी.

इसे भी पढ़े : शिवसेना ने कहा, अध्यादेश लाकर केंद्र सरकार मस्जिदों पर लगे लाउडस्पीकरों पर रोक लगाये

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: