BusinessLead NewsNationalTOP SLIDER

महत्वपूर्ण खबर : Mobile SIM अब OTP से होगा एक्टिवेट, जानें नियमों में क्या हुए बड़े बदलाव

18 साल से कम उम्र वाले बच्चों को कोई भी टेलीकॉम ऑपरेटर नहीं दे सकेगा सिम कार्ड

New Delhi : अगर आफ मोबाइल फोन इस्तेमाल करते हैं तो ये खबर आपके बेहद काम की है. मोबाइल सिम लेने के नियमों में दूरसंचार विभाग (DoT) ने बड़े बदलाव किये हैं. किसी भी कंपनी के सिम कार्ड को एक्टिवेट कराने के लिए अब आपको ना ही ढेर सारे दस्तावेज सौंपने की जरूरत होगी और ना ही आपको बार-बार चक्कर काटना पड़ेगा.

नए नियम के तहत आप ओटीपी (OTP) के जरिए आसानी से सिम कार्ड को एक्टिवेट करा सकेंगे. हालांकि, अब 18 साल से कम उम्र वाले बच्चों को देश के किसी भी टेलीकॉम ऑपरेटर की ओर से सिम कार्ड जारी नहीं किए जाएगा.

इसे भी पढ़ें :  भारत केंद्रित है नयी शिक्षा नीति, बच्चों का तेजी से होगा विकास : तिवारी

advt

डिजिटल केवाईसी को मिली हरी झंडी

दरअसल, दूरसंचार विभाग ने डिजिटल केवाईसी (Digital KYC) को हरी झंडी दे दी है. दूरसंचार विभाग ने कहा कि भारत में नाबालिगों को सिम कार्ड जारी नहीं किए जाने चाहिए. साफ है कि अब 18 साल से कम उम्र का कोई भी व्यक्ति देश के किसी भी टेलीकॉम ऑपरेटर से सिम कार्ड नहीं खरीद सकता है.

वहीं, जिनकी मानसिक स्थिति ठीक नहीं है, ऐसे लोगों को भी सिम कार्ड जारी करने पर प्रतिबंध लगाया गया है. अगर ऐसा होता है, तो इसके लिए टेलिकॉम ऑपरेटर को दोषी माना जाएगा.

adv

इसे भी पढ़ें : AUS W vs IND W: भारतीय महिलाओं ने जीता आखिरी वनडे , कंगारूओं के लगातार 26 जीत के सिलसिले पर लगायी BREAK

अब घर बैठे नया मोबाइल कनेक्शन हासिल करें

दूरसंचार विभाग की तरफ से मोबाइल सिम लेने के लिए eKYC और Self KYC प्रक्रिया शुरू की गई है. इसके तहत घर बैठे नया मोबाइल कनेक्शन हासिल किया जा सकेगा. साथ ही प्री-पेड से पोस्डपेड और पोस्टपेड से प्री-पेड में सिम पोर्ट करने लिए सिम बदलना नहीं होगा. नेटवर्क प्रोवाइडर कंपनी एप के जरिए यूजर्स खुद केवाईसी कर पाएगी और इसके लिए ग्राहकों से सिर्फ एक रुपये का शुल्क लिया जाएगा. डिजिटल केवाईसी के जरिए कस्टमर घर बैठे महज वन टाइम पासवर्ड के जरिए सिम को एक्टिवेट करा सकेंगे.

इसे भी पढ़ें : ‘मन की बात’ कार्यक्रम में दिखी खूंटी के केलो गांव के महिला समूह की बांस की कारीगरी

नई प्रक्रिया को 30 दिन के अंदर लागू करनी होगी

कंपनियों को नई प्रक्रिया को 30 दिन के अंदर लागू करनी होगी. इससे पहले ट्राई (TRAI) ने टैरिफ को लेकर गाइडलाइन जारी की थी. जिसमें कंपनियों को निर्देश दिया गया था कि वे मोबाइल प्लानों को लेकर पारदर्शिता बरतें. साथ ही कोई भी जानकारी छिपी हुई न हो, इसकी स्पष्ट जानकारी दें.

 

कंपनी को सारी जानकारियां मुहैया करानी होगी

प्लान को लेकर कस्टमर किसी उलझन में न रहे इसके लिए कंपनी को सारी जानकारियां मुहैया करानी होगी. ट्राई के टैरिफ नियम के मुताबिक कंपनियों को एसएमएस, वॉयस कॉल, डेटा लिमिट बताना जरूरी होगा. इसके अलावा वैलिडिटी और बिल डेडलाइन की जानकारी भी साफ-साफ देनी होगी. नए गाइडलाइन के तहत नया सिम खरीदने के लिए ग्राहकों को एक कस्टमर एक्विजिशन फॉर्म (CAF) भरना होगा.

इसे भी पढ़ें : संविदा पर बहाल हुए पुलिसकर्मी कल से राजभवन और सीएम आवास के सामने करेंगे अनिश्चितकालीन धरना-प्रदर्शन

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: