न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

मां सरस्वती की प्रतिमाओं का विसर्जन, जाम हुआ शहर, तीन घंटे बस में बिलखते रहे मासूम

मां सरस्वती के भक्त डीजे की धुन पर झूमते रहे, बीच सड़क से हटने को भी तैयार नहीं थे भक्त, अबीर-गुलाल उड़ाने और नागिन डांस करने में रहे व्यस्त

254

Ranchi: मां सरस्वती के भक्तों का अंदाज भी अजीब रहा. मां की विदाई की बेला में भक्त डीजे साउंड पर नागपुरी अैर पंजाबी गीतों झूमते रहे. उनके बेतरतीब डांस देख पब्लिक भी हैरान. क्या युवा और क्या युवतियां, अजीबोगरीब डांस. लालपुर चौक से कचहरी चौक तक पैदल एक ईंच भी आगे बढ़ने की जगह नहीं. लगभग चार घंटे तक  कचहरी चौके, लालपुर चौक तक जाम रहा. इसका असर पूरे शहर पर भी पड़ा. उधर रातू रोड जाम. इधर कचहरी से अल्बर्ट एक्का चौक जाम, पुलिस प्रशासन भी अवाक और बेबस. कई स्कूलों की बसें दोपहर दो बजे से शाम पांच बजे तक जाम में फंसी रहीं.

भक्तों को मासूमों का भी ख्याल नहीं

मां सरस्वती के भक्तों को मासूमों का भी ख्याल नहीं रहा. मासूम बच्चे बस में बिलखते रहे. गार्जियन भी परेशान रहे. स्कूल में फोन पर जानकारी ले रहे थे कि बस कब पहुंचेगी. स्कूल से कहा जाता रहा कि बस निकल चुकी है. जाम में फंसी हुई है. फिर कहा जाता रहा कि बस रेडियम रोड तक ही पहुंची है, तो कभी कचहरी चौक में बस जाम में फंसी हुई है. गार्जियन भी कचहरी चौक तक नहीं पहुंच पा रहे थे. कुछ गार्जियन कचहरी चौक तक पहुंच भी गये तो वहां बच्चे को लेकर निकलना भी मुश्किल.

hosp3

शाम पांच बजे के बाद किसी तरह जाम हुआ क्लीयर

शाम पांच बजे के बाद किसी तरह से जाम क्लियर हुआ. रांची वीमेंस कॉलेज के पास चल रहे एक-एक कोचिंग संस्थानों में प्रतियोगिता परीक्षा की तैयारी करनेवाले अभ्यर्थी हों या फिर मैट्रिक या इंटर की तैयारी करनेवाले स्टूडेंट्स. किसी को भी बस में बैठे बच्चों की परवाह नहीं थी. सब अपनी धुन में व्यस्त. वे नाचते-गाते लालपुर चौक पहुंचे. फिर वहां से वापस नाचते-गाते जेल चौक की ओर बढ़े. आम आदमी के लिए आगे बढ़ने की गुंजाईश ही नहीं थी. वहीं बस में बैठे छोटे बच्चे बस ड्राइवर से गुहार लगाते रहे कि ड्राइवर अंकल घर में मम्मी-पापा से बात करा दीजिये. किसी तरह शाम पांच बजे के बाद बच्चे घर पहुंच सके.

इसे भी पढ़ें – प्राथमिक और माध्यमिक स्कूलों के बच्चों को अब कॉपियां भी मुफ्त मिलेंगी

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: