न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पेंडिंंग फिटनेस पेपर में तत्काल हस्ताक्षर करें, नहीं तो होगा एमवीआइ ऑफिस का घेराव: ट्रक एसोसिएशन

झारखंड ट्रक ऑनर्स एसोसिएशन ने की बैठक

107

Ranchi: व्यावसायिक वाहनों को फिटनेस सर्टिफिकेट लेने में आ रही दिक्कतों को लेकर झारखंड ट्रक ऑनर्स एसोसिएशन के बैनर तले गुरुवार को एक बैठक रिंग रोड स्थित सोडा फाउंटेन में हुई. बैठक में रांची, मगध अमरपाली व हजारीबाग ट्रक एसोसिशन से जुड़े सदस्‍य भी उपस्थित थे. इस दौरान फिटनेस को लेकर ट्रक मालिकों को आ रही दिक्कतों को लेकर चर्चा हुई. एसोसिएशन से जुड़े लोगों ने कड़ा रूख अपनाते हुए मोटर व्हीकल इंस्पेक्टर (एमवीआइ) ऑफिस में पेंडिंग पड़े फिटनेस पेपर को निपटाने की मांग की. कहा कि प्रशासन अगर उनकी मांगों को नहीं मानती है, तो आगामी सोमवार को एमवीआइ ऑफिस का घेराव किया जाएगा.

गोलबंद हो गये है एसोसिएशन से जुड़े लोग

मालूम हो कि इन दिनों झारखंड ट्रक ऑनर्स एसोसिएशन के लोग अपने वाहनों के फिटनेस टेस्‍ट में आ रही दिक्कतों को लेकर गोलबंद होने लगे हैं. दो दिन पहले एसोसिशन ने फिटनेस में लग रहे अतिरिक्त राशि पर विरोध जताते हुए कहा था कि जहां राज्य के अऩ्य जिलों में वाहनों के फीटनेस में 945 रुपये लगते हैं. वहीं रांची वाहन मालिकों को 1416 रुपये (अतिरिक्त 471 रुपये) देना पड़ता है. खेलारी कोल्ड फील्ड में चलाने वाले वाहनों को रांची सेंटर आऩे-जाने में काफी लागत लगती है. इससे उन्हें व्यवसाय में काफी नुकसान होता है.

फिटनेस में आ रही दिक्कतें ट्रक मालिकों का शोषण जैसा: दीपक ओझा

बैठक में उपस्थित दीपक ओझा ने बताया कि ट्रकों के फिटनेस कार्य में आ रही दिक्कतों का आना एक तरह से ट्रक मालिकों के साथ शोषण होना जैसा है. इस दौरान प्रशासन से निम्न मांग की गयी.

  • फिटनेस पेपर में सीएस (काउंटर हस्ताक्षर) की व्यवस्था खत्म हो.
  • एमवीआइ और टीयूभी-एसयूडी साउथ एशिया द्वारा संचालित ऑटोमेटेड फिटनेस सेंटर दोनों से फिटनेश व्यवस्था लागू की जाये. दोनों में से जिनसे ट्रक मालिक फिटनेस कराना चाहते हैं, उन्हें कराने की छूट हो.
  • एमवीआइ के पास पेंडिंंग फिटनेश पेपर को अविलंब हस्ताक्षर कर ट्रक मालिकों को दिया जाये.

इसे भी पढ़ें: सदर सुपर स्पेशियलिटी हॉस्पिटल में लगीं लाखों रुपये की मशीनों का नहीं हो रहा इस्तेमाल

इसे भी पढ़ें: कंबल तो दूर की कौड़ी, झारखंड में बेघर लोगों के लिए विंटर एक्शन प्लान ही नहीं

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: