न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पलामू में नहीं थम रहा अवैध बालू खनन का धंधा, हर दिन बड़ी मात्रा में यूपी और बिहार पहुंच रही रेत की खेप

पुलिस ने बालू लदे दो ट्रक, एक जेसीबी और तीन तस्करों को किया गिरफ्तार

486

Daltongunj: पलामू जिले के तटीय क्षेत्रों में बालू का अवैध कारोबार खुलेआम चल रहा है. प्रशासन और पुलिस की चैकसी को ठेंगा दिखाते हुए रेत के अवैध कारोबारी, करोबार को खुलेआम अंजाम दे रहे हैं. पलामू जिले का बालू, खनन माफियाओं के लिए कमाई का एक मजबूत धंधा बन गया है.
पलामू जिले में बालू उठाव पर रोक है. लेकिन यहां से हर दिन बड़ी मात्रा मे रेत की खेप बिहार और उत्तर प्रदेश भेजी जा रही है. इसका सबसे बड़ा प्रमाण है आये दिन अवैध बालू लदे ट्रकों का जब्त होना और तस्करों की गिरफ्तारी.

इसी ट्रक से बालू को यूपी भेजने की थी तैयारी
इसी ट्रक से बालू को यूपी भेजने की थी तैयारी

तीन ट्रक, एक जेसीबी जब्त, दो तस्कर गिरफ्तार

रविवार को चैनपुर प्रखंड के बुढ़ीवीर गांव में तहले नदी के तट से अवैध बालू का उठाव करते तीन ट्रक और एक जेसीबी को जब्त किया गया. साथ ही दो तस्करों को भी गिरफ्तार किया गया. गुप्त सूचना के आधार पर चैनपुर के अंचलाधिकारी और स्थानीय थाना प्रभारी व्यास राम जब तहले नदी के तट पर पहुंचे तो तस्करों में अफरा-तफरी मच गई. हालांकि इस दौरान कई तस्कर भाग निकलने में कामयाब रहे.

इसे भी पढ़ें- झारखंड में रोम, इटली, फ्रांस की संस्कृति नहीं चलेगी : केंद्रीय सरना समिति

बालू को यूपी भेजने की थी तैयारी

इस दौरान पुलिस ने मौके से तीन ट्रक और एक टैक्टरनुमा जेसीबी जब्त किया. इनमें दो ट्रकों पर बालू लोड थे और उन्हें यूपी भेजने की तैयारी थी. धटनास्थल से विजय चौरसिया और एक ट्रक का चालक अनीष कुमार को गिरफ्तार किया गया. दोनों ने बालू तस्करी में अपनी संलिप्तता स्वीकार कर ली है.

गिरफ्तार तस्करों के खिलाफ मामला दर्ज

चैनपुर अंचलाधिकारी के आवेदन पर पुलिस ने बुढ़ीवीर निवसी विजय चौरसिया, अनिल चौरसिया, सुनील चौरसिया (तीनों के पिता- राजेन्द्र चौरसिया), राम प्रकाश दुबे (पिता- सुनील दुबे) के साथ-साथ तीनों ट्रकों के मालिकों, चालकों तथा जेसीबी के चालक और मालिक पर विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज किया है. घटनास्थल से एक मोटरसाईकिल भी जब्त की गयी है, जो विजय चौरसिया की है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

%d bloggers like this: