न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

यूं ठगे गये LIC के चार बीमा धारक, खातों से 22.23 लाख रुपए की अवैध निकासी

239

Ranchi: चुटिया थाना क्षेत्र के पीपी कंपाउंड स्थित भारतीय जीवन बीमा निगम रांची शाखा-1 चार बीमा धारकों के खातों से करीब 22 लाख रुपए की निकासी कर ली गयी है. इसके लिए भारतीय जीवन बीमा निगम के फर्जी कागजात का इस्‍तेमाल किया गया. इस संबंध में भारतीय जीवन बीमा निगम रांची शाखा-1 के प्रबंधक के द्वारा चुटिया थाना में अज्ञात लोगों के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई गयी है.

इसे भी पढ़ें – रघुवर सरकार ने माओवादी व टीपीसी को धन मुहैया कराने वाले रघुराम रेड्डी के खिलाफ नहीं की कार्रवाई

कैसे हुई धोखाधड़ी की जानकारी

भारतीय जीवन बीमा निगम रांची शाखा-1 के प्रबंधक पवन भेंगरा से मिली जानकारी के अनुसार एक बीमा धारक बरसा रानी के द्वारा 9 अक्टूबर को लिखित शिकायत की थी कि उनकी पॉलिसी से सरेंडर पॉलिसी का भुगतान बिना उनकी जानकारी के हो गया. उन्हें इस बात की जानकारी तब हुई जब वह कोलकाता में अपना प्रीमियम जमा करने के लिए वहां के ए शाखा में गयी थी.

इसे भी पढ़ें – गैर सेवा IAS संवर्ग में प्रमोशन के लिए 10 नाम तय, UPSC को भेजी गई अनुशंसा

यूनियन बैंक ऑफ इंडिया और अरगोड़ा शाखा से की गयी निकासी 

प्रारंभिक जांच में पता चला कि वसुंधरा मेगा मार्ट स्थित यूनियन बैंक ऑफ इंडिया और अरगोड़ा शाखा में जालसाजी कर खोले गये बैंक खाता के माध्यम से रुपये की निकासी की गयी है. जब यूनियन बैंक ऑफ इंडिया अरगोड़ा शाखा के बैंक प्रबंधक से इस निकासी के मामले में जानकारी मांगी गयी तो पता चला कि बैंक में अकाउंट जाली कागजात के सहारे खोला गया था. क्योंकि बैंक में जमा दस्तावेज बीमा धारक बरसा रानी के दस्तावेज से भिन्न थे.

palamu_12

इसे भी पढ़ें – सांसद कोष से अब अटल ज्योति योजना के लिए 2000 स्ट्रीट लाइट लगानी जरूरी

तीन और बीमा धारकों से की गयी जालसाजी

इस मामले के सामने आने के बाद कर्मचारियों को शक हुआ. तब उनकी छानबीन से पता चला कि ऐसे ही जालसाजी कर और मामलों में पॉलिसी सरेंडर कर भारतीय जीवन बीमा निगम को आर्थिक नुकसान पहुंचाया गया है. जब सभी सरेंडर पॉलिसी की जांच की गई तो पता चला कि तीन और बीमा धारकों के खाते से इस तरह के धोखाधड़ी की गई है.

किस बीमा धारक के खाते से कितनी की हुई अवैध निकासी

फर्जी कागजात के सहारे धोखाधड़ी कर रुपया निकालने के मामले में जब जांच की गयी तो पता चला कि वर्षा रानी के खाते से – 9,95,492 रुपए, हर्ष शर्मा के खाते से- 4,85,520 रुपए, अलारेम रानी के खाते से- 3,75,277 रुपए, सिद्धार्थ चौधरी के खाते से- 3,66,954 रुपए की निकासी की गयी है. सभी को मिला कर कुल 22,23,243 रुपए की निकासी की गयी है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

%d bloggers like this: