Crime NewsJharkhandLead NewsNEWSRanchiTOP SLIDER

साहेबगंज में चल रहे अवैध खनन कार्रवाई में 75 करोड़ की अवैध संपत्ति जब्त, कई कारोबारी रडार पर

Ranchi : साहिबगंज में 3 दिन से चल रहे ईडी के कार्रवाई में अब तक 75 करोड़ की संपत्ति जप्त की गई है. अवैध खनन-परिवहन में ईडी मनी लांड्रिंग के तहत साहिबगंज में जांच कर रही है. सीएम हेमंत सोरेन के बरहेट विधानसभा क्षेत्र के विधायक प्रतिनिधि पंकज मिश्रा ईडी की रिमांड पर कई जमकारी दी थी.

गंगा नदी में अवैध तरीके से जहाज का संचालन कर रहे राजेश यादव उर्फ दाहू यादव का एक मालवाहक जहाज जब्त किया है, जिसकी कीमत करीब 30 करोड़ रुपये बताई जा रही है. दाहू यादव पंकज मिश्रा का खास माना जाता है. इसके अलावे पंकज मिश्रा ओर उनके सहयोगियों की करीब 45 करोड़ रुपये मूल्य का 37.5 लाख क्यूबिक फीट पत्थर भी जब्त किया है. ईडी द्वारा प्रेस विज्ञप्ति में बताया गया है. जब्त मालवाहक जहाज डब्ल्यूबी1809 साहिबगंज में गंगा नदी पर सुकरगढ़ घाट से बिना परमिट के अवैध रूप से संचालित किया जा रहा था.

इस जहाज से अवैध तरीके से खनन के पत्थर, स्टोन चिप्स का परिवहन पंकज मिश्रा और अन्य के सहयोग से दाहू यादव करता था. इस संबंध में ईडी ने साहिबगंज के मुफ्फसिल थाने में जहाज संचालक के खिलाफ बंगाल फेरी अधिनियम के तहत प्राथमिकी दर्ज कराई है. वही पंकज मिश्रा के सहयोगी विष्णु यादव ओर पवित्रा यादव के माध्यम से अवैध रूप से चल रहे मां अंबा स्टोन वर्क्स की दो स्टोन क्रशर को भी ईडी में फ्रीज किया है. मझिकोला में बिना किसी खनन चालान के स्टोन चिप्स लदे तीन ट्रक भी जब्त किया गया है. इस मामले में 26 जुलाई को अलग से ईडी में गिड़वाबड़ी में प्राथमिकी दर्ज करवाया है.

कई कारोबारी ईडी के रडार पर

साहिबगंज में बीते 3 दिन से ईडी अवैध खनन मामले की जांच कर रही है. साहिबगंज इलाके में ईडी की टीम अवैध खनन को लेकर जलवे भी करा रही है. इस काम मे ईडी के अलावे झारखंड राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के अधिकारी, जिला खनन पदाधिकारी, वन विभाग के पदाधिकारी समेत कई अन्य विभाग के अधिकारी के साथ  कार्यालय साहेबगंज और साहेबगंज के अन्य अधिकारियों के साथ संयुक्त सर्वेक्षण कर रही है. इस दौरान अवैध खनन से जुड़े कई अन्य लोगों की पहचान की जा रही है. अवैध कारोबार से अर्जित की गई संपत्ति बनाने वालों के बारे में भी ईडी जानकारी जुटा रही है. ईडी ऐसे लोगों पर मनी लॉन्ड्रिंग के तहत कार्रवाई कर सकती है.

इसे भी पढ़ें: JPSC CHAIRMAN की नियुक्ति से संबंधित कोई भी संचिका राजभवन में लंबित नहीं

Related Articles

Back to top button