JharkhandSahibganj

साहेबगंज में नहीं रुक रहा अवैध खनन का खेल

लाखों टन गिट्टी अवैध रूप से नाव के सहारे नदी के रास्ते भेजा जा रहा बिहार

सरकार को लाखों रुपये राजस्व का रोज लग रहा है चूना

Nirbhay Ojha

Catalyst IAS
ram janam hospital

Sahebganj :  साहेबगंज में केंद्र सरकारी की महत्वकांक्षी परियोजा नमामी गंगे चल रही है जिसका उद्देश्य गंगा को प्रदूषणमुक्त बनाना है. पर विडम्बना यह है कि जिस गंगा नदी को प्रदूषणमुक्त बनाने की कवायद चल रही है उसी नदी के किनारे पत्थर माफिया अवैध भंडारण कर रहे हैं और वहीं से उसे बिहार भेज रहे हैं. सकरी गली के सीताचौकी घाट पर पत्थर का अवैध भंडारण खनन माफियाओं के द्वारा किया गया है, जो घाट पर ही पत्थर को तुड़वाते हैं. गिट्टी बनाकर नदी के रास्ते नाव के सहारे बिहार के मनिहारी भेजते हैं. यह पूरा मामला अवैध है. सीताचौकी गांव के ग्रामीणों ने जब देखा कि सरकार के आदेश का पालन भी खनन माफिया नहीं कर रहे हैं. तो उन्होंने मुख्यमंत्री जनसंवाद में शिकायत की.

The Royal’s
Sanjeevani
Pitambara
Pushpanjali

इसे भी पढ़ें: अपराध की योजना बनाते 8 आरोपी गिरफ्तार, हथियार बरामद

नदी किनारे पत्थर का भंडारण पूरी तरह से अवैध

जिसका असर मात्र इतना हुआ कि खनन बिभाग ने ऑनलाइन एक चिट्टी बना कर विभागीय पेज पर पोस्ट कर दिया, जिसमें खनन पदाधिकारी ने सदर अनुमंडल पदाधीकारी से अपील की कि वह नदी किनारे पत्थर का अवैध भंडारण न होने दें. गंगा नदी को जो प्रदूषित कर रहे हैं उन्हें दंडित किया जाये. नदी किनारे पत्थर का भंडारण पूरी तरह से अवैध है. पर इसका कोई असर होता नहीं दिख रहा है. नदी के किनारे अवैध रूप से पत्थर ढुलाई का कार्य नावों के द्वारा निरंतर किया जा रहा है.नाम नहीं छापने की शर्त पर सीताचौकी के ग्रामीण ने बताया कि इस पत्थर व्यवसाय की आड़ में खनन माफिया खनन विभाग की मिलीभगत से गंगा नदी को प्रदूषित कर रहें हैं व रोज लाखों रुपये के राजस्व का चूना लगा रहे हैं.

इसे भी पढ़ें: जुलाई 2019 से पूरे झारखंड को 24 घंटे मिलेगी बिजली: रघुवर

नमामी गंगे योजना की आड़ में बालू का अवैध धंधा भी शुरू

झारखंड सरकार ने फिलहाल सभी ज़िले में बालू की खुदाई और ढुलाई दोनों बंद कर रखा है, जिससे बालू की ढुलाई ज़िले में बंद हैं, लेकिन नमामी गंगे योजना के तहत सीवरेज सिस्टम योजना चल रही है. इस योजना के लिए जिला प्रशासन ने सीवरेज सिस्टम योजना का कार्य करने वाली एजेन्सी के दो हाइवा को परमीशन बालू ढोने के लिये दिया है. बस इसी आदेश का फायदा बालू माफियाओं ने उठा लिया व सीवरेज का कार्य करवा रही एजेन्सी के प्रोजेक्ट मैनजर को मिलाकर सीवरेज योजना के नाम रोज दस से बीस ट्रिप बालू लोड कर हाइवा साहेबगंज आता है और बालू माफिया मनमानी कीमत पर शहर में बेच देते हैं.

इसे भी पढ़ें: सीएम का आदेश हुआ फेल, 72 घंटे होने के बाद भी नहीं पकड़े गए नरेंद्र सिंह होरा के हत्यारे

क्या कहते हैं जिला खनन पदाधिकारी

इस मामले में जिला खनन पदाधीकारी विभूति प्रसाद ने बताया की जनसंवाद से मिली शिकायत पर कारवाई की गयी थी. घाट पर अवैध रूप से भंडारण किये गये पत्थर व नाव को जब्त किया गया था. प्राथमिकी भी दर्ज़ करवाई गयी थी, लेकिन फ़िर शिकायत मिल रही है कि खनन माफिया घाट के किनारे पत्थर का अवैध भंडारण कर के नाव से ढुलाई कर रहे हैं, इस पर कारवाई की जायेगी.

Related Articles

Back to top button