न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

रांची के कई इलाकों में अवैध शराब का कारोबार, अनजान बने हैं उत्पाद विभाग और पुलिस

535

Ranchi: राजधानी रांची में धड़ल्ले से अवैध शराब का कारोबार हो रहा है. शराब कारोबारी नकली शराब को धड़ल्ले से रांची के कई होटलों और ढाबों में सप्लाई कर रहे हैं.

मिली जानकारी के मुताबिक, राजधानी रांची के 17 थाना क्षेत्रों में धड़ल्ले से अवैध शराब का कारोबार जारी है, लेकिन इस अवैध शराब के कारोबार से उत्पाद विभाग और स्थानीय थाना की पुलिस दोनों अनजान हैं.

इसे भी पढ़ेंःबीजेपी का घोषणा पत्र ‘संकल्पित भारत, सशक्त भारत’ जारी- जम्मू-कश्मीर से 35 A हटाने का संकल्प

जहां एक तरफ एसडीओ के द्वारा लगातार अवैध शराब के खिलाफ अभियान चलाया जा रहा है और अवैध शराब बरामद किये जा रहे हैं. वही अपने क्षेत्रों में हो रहे शराब के अवैध कारोबार से स्थानीय थाना प्रभारी अनजान बने हुए हैं.

17 थाना क्षेत्रों में शराब का अवैध कारोबार

राजधानी रांची के 17 थाना क्षेत्रों में अवैध शराब का कारोबार धड़ल्ले से चल रहा है. जिनमें डोरंडा,नामकुम,लोअर बाजार, कांके,कोतवाली,लालपुर,सुखदेवनगर,पंडरा,धुर्वा,तुपुदाना, रातू, नगड़ी, गोंदा ,चुटिया,सदर थाना और ओरमांझी थाना क्षेत्र शामिल है. शराब कारोबारी अवैध शराब का कारोबार कर रहे हैं. लेकिन इन थाना की पुलिस अनजान बनी बैठी हुई है.

स्थानीय थानों का संरक्षण !

अवैध शराब का कारोबार करने वाले शराब माफिया को स्थानीय थानों का संरक्षण प्राप्त है. जिसके कारण शराब माफिया धड़ल्ले से अवैध शराब का कारोबार कर रहे हैं.

होटलों और ढाबों में अवैध तरीके से सप्लाई कर रहे हैं. जिसपर पुलिस भी किसी तरह की कोई कार्रवाई नहीं कर रही है. मिली जानकारी के अनुसार, शराब कारोबारी स्थानीय थाना के पुलिसकर्मियों को मिलाकर रखते हैं.

अगर पुलिस अवैध शराब के खिलाफ छापेमारी करने जाती है, तो इससे पहले ही शराब कारोबारी को इसकी सूचना मिल जाती है वे भागने में सफल हो जाते हैं.

Related Posts

महिला कांग्रेस अध्यक्ष पर आरोप,  बड़े नेताओं को खुश करने को कहती थीं, आरोप को बेबुनियाद बताया गुंजन सिंह ने

पैसा नहीं कमाओगी और बड़े नेताओं को खुश नहीं रखोगी, तो तुम्हें कौन टिकट दिलायेगा.

SMILE

इसे भी पढ़ेंःचुनाव के बीच केंद्रीय एजेंसियों की निष्पक्षता सवालों और संदेहों के…

थाना प्रभारी और उत्पाद विभाग अनजान

एसडीओ के द्वारा लगातार अवैध शराब के खिलाफ अभियान चलाया जा रहा है और अवैध शराब बरामद भी किए जा रहे हैं. एसडीओ के द्वारा अलग-अलग थाना क्षेत्रों में अवैध शराब बरामद किए गए हैं, लेकिन इन थाना क्षेत्रों में हो रहे अवैध शराब का कारोबार से जहां स्थानीय थाना की पुलिस और उत्पाद विभाग भी अनजान बना हुआ है.

30 सितंबर 2018 को गोंदा थाना क्षेत्र के हातमा बस्ती में अवैध जहरीली शराब पीने से हुई 7 लोगों के मौत के बाद पुलिस और उत्पाद विभाग के द्वारा बरती गई.

सख्ती के बाद कुछ दिनों के लिए अवैध शराब का कारोबार रुक गया था. अवैध शराब कारोबारी भूमिगत हो गए थे. लेकिन कुछ ही दिनों के बाद फिर से अवैध शराब का कारोबार धड़ल्ले से चल रहा है.

दूसरे राज्यों से आती है शराब की खेप

राजधानी रांची में हरियाणा, अरुणाचल प्रदेश, दिल्ली और पंजाब सहित कई अन्य राज्यों से अवैध शराब की खेप भेजी जाती है. यह शराब की खेप रात के समय राजधानी रांची में पहुंचती है और सुबह होते होते शराब से भरी ट्रक पूरी तरह से खाली हो जाती है. शराब माफिया छोटे-छोटे वाहनों में लोड करके शराब को अलग-अलग जगहों पर सप्लाई करने निकल जाते हैं.

इसे भी पढ़ेंःधनबादः कीर्ति आजाद को टिकट मिलने के कयास के साथ ही शुरू हुआ विरोध

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: