न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

मगध कोल परियोजना में फिर पकड़ाया अवैध कोयला लदा ट्रक

111

Tandwa/Chatra: सीसीएल अधिकारी व कोल माफिया की मिलीभगत से अवैध कोयला चोरी हर दिन जारी है. मगध कोल परियोजना क्षेत्र से प्रतिदिन कोयले की हेरा-फेरी का मामला प्रकाश में आ रहा है. सीसीएल अधिकारी व कोल माफियाओं द्वारा मोटरसाइकिल, बसों व टेम्पो का नम्बर लगा कर व फर्जी कागजात से लाखों टन कोयला खपाया जा चुका है. ऐसा ही मामला शनिवार को पकड़ में आया है. जानकारी के अनुसार शुक्रवार को तीन ट्रक JH02n8511, JH02u4042 एवं NL 8304 परियोजना क्षेत्र से कोयला लोड कर माइंस क्षेत्र से बाहर निकल रहे थे. इसी दौरान ग्रामीणों व ट्रैक ऑनर एसोसिएशन के सदस्यों ने गाड़ी को रुकवा कर चालक से कागजात मांगा. जिसके बाद चालक गाड़ी छोड़ कर भाग निकला.

पुलिस ने ट्रकों को कब्जे में लिया

इसके बाद ट्रक ऑनर एसोसिएशन के सदस्यों ने स्थानीय पुलिस को सूचना दी. पुलिस ने तीनों ट्रकों को कब्जे में ले लिया और जांच पड़ताल की. जांच में कागजात फर्जी निकले. गाड़ी नम्बर की भी जांच की जा रही है. ट्रक ऑनर एसोसिएशन के अध्यक्ष प्रह्लाद सिंह ने बताया कि सीसीएल के सेल्स पदाधिकारी सुबोध प्रसाद की मिली भगत से परियोजना क्षेत्र में अवैध कारोबार फल-फूल रहा है. और मिली भगत से हर दिन कोयला चोरी की जा रही थी. मामला पकड़ में आने के बाद सीसीएल महाप्रबंधक अरबी सिंह ने दोषी सीसीएल अधिकारी सुबोध प्रसाद को सस्पेंड कर दिया है. मालूम हो कि इस परियोजना में अवैध कोयले का कारोबार हमेशा होते रहा है. दो दिन पूर्व भी एक ट्रक कोयला पकड़ाया था. तथा दो माह पूर्व लाखों टन कोयला टेम्पो, बस व मोटरसाइकिल से ढोया गया. जो चर्चा का विषय बना हुआ है. परियोजना में इतने काले खेल होने के बावजूद आज तक पुलिस कोल माफिया को पकड़ने में कामयाब नहीं हो पाई. दिलचस्प बात यह है कि परियोजना में कोयले की हमेशा हेरा-फेरी होने के बावजूद सीसीएल अधिकारी चुप रहते हैं. समाचार लिखे जाने तक केस दर्ज नहीं हो पाया था.

silk_park

इसे भी पढ़ें – रांची : एटीएस ने दो-दो हजार के 104 नकली नोटों के साथ युवक को किया गिरफ्तार

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: