Jamshedpur

आदित्यपुर से जमशेदपुर होते हुए घाटशिला-जादूगोड़ा तक फैला ब्राउन शुगर का अवैध धंधा

युवाओ में तेजी से बढ़ रहा है नशे के सेवन की लत, क्षेत्र में चोरी-छिनतई की घटनाएं बढ़ी, नशे के सौदागर हो रहें मालामाल

Ghatshila : आदित्यपुर के मुस्लिम बस्ती से शुरु हुआ ब्राउन शुगर का अवैध धंधा जमशेदपुर के जुगसलाई, मानगो, आजादनगर, धतकीडीह, साकची और सीतारामडेरा जैसे क्षेत्रों से होते हुए अब जिले के ग्रामीण क्षेत्रो में फैल चुका है. नशे के कारोबारियों के बढ़ते दायरा का आलम यह है कि घाटशिला अनुमंडल का शायद ही कोई इलाका इस अवैध कारोबार से अछूता हो. घाटशिला के अलावा जादूगोड़ा और चाकुलिया क्षेत्र के युवा इन दिनों लगातार नशे के सेवन के शिकार हो रहे हैं. इससे एक ओर जहां क्षेत्र में चोरी-छिनतई की घटनाएं बढ़ गई है, वहीं नशे के कारोबारी मालामाल हो रहे हैं.

डैनड्राइड और गांजा की जगह अब ब्राउन शुगर

इससे पहले एक समय था जब क्षेत्र के युवाओ में डैनड्राइड और गांजा जैसे नशे के सेवन का प्रचलन जोरो पर था, लेकिन अब बदलते समय के साथ युवा वर्ग इन नशीले पदार्थों की जगह ब्राउन शुगर का सेवन करने लगे हैं. इससे युवा वर्ग भीतर ही भीतर खोखला होता जा रहा है.

एक पुड़िया की कीमत चार से पांच सौ रुपये तक

ब्राउन शुगर की एक पुड़िया की कीमत चार सौ रुपये से पांच सौ रुपये तक बतायी जाती है. बावजूद इसके लगातार सेवन से युवा वर्ग पीछे नहीं हट रहा है. चाहे इसके लिए चोरी करनी पड़े या छिनतई. यह एक बड़ी वजह मानी जा रही है क्षेत्र में बढ़ते आपराधिक घटनाओं की.

पुलिस ने साध रखी है चुप्पी

इतना कुछ होते हुए ब्राउन शुगर के इस अवैध धंधे को लेकर पुलिस ने चुप्पी साध रखी है. जमशेदपुर शहर में तो गाहे-बगाहे ब्राउन शुगर के धंधे में लिप्त लोगों पर पुलिस कार्रवाई भी करती है, लेकिन घाटशिला अनुमंडल की पुलिस सारा कुछ जानते हुए भी जैसे अपनी आंखें बंद कर रखी है. बता दें कि पिछले दिनों ग्रामीण एसपी नाथू सिंह मीणा ने नशे के अवैध कारोबारियों एवं अपराधियो पर नकेल कसने की बात कही थी. बावजूद इसके स्थानीय पुलिस को अबतक ब्राउन शुगर सप्लायरों को पकडऩे में कामयाबी नहीं मिल पायी है.

स्कूली बच्चे भी नशीले पदार्थों के सेवन से अछूते नहीं

जादूगोड़ा से सटे सीताडंगा के ग्रामीणों की मानें तो यूसील कॉलोनी जादूगोड़ा से सीताडंगा आने वाली मार्ग पर कई बार स्कूली बच्चों को गांजा व सिगरेट का सेवन करते हुए देखा जाता है. इस तरह के बच्चों को बस्ती वाले चेतावनी देकर छोड़ देते हैं.

इसे भी पढ़ें- परसूडीह-गोविंदपुर इलाके में जलसंकट गहराया, भाजपाई करेंगे डीसी से शिकायत

Advt

Related Articles

Back to top button