न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

#IitDelhi दिल्ली की प्रदर्शनी में शाकाहारी अंडों और हल्की बुलेटप्रूफ जैकेट की धूम

1,569

New Delhi : पौधों से बने शाकाहारी अंडे, जैविक तौर पर घुलनशील कार्डियक स्टेंट, बिजली के बिना काम करने वाली ताप प्रणाली और हल्की बुलेटप्रूफ जैकेट जैसे 200 नवोन्मेषी उत्पादों को आईआईटी दिल्ली में तीसरे उद्योग दिवस के अवसर पर शनिवार को प्रदर्शित किया गया.

लोगों में पौधों से बने अंडे चखने की सबसे ज्यादा ललक देखने को मिली. ये अंडे मसूर की दाल से बनाए गए हैं और इन्हें मांसाहारी खाने के विकल्प के तौर पर पेश किया गया, जबकि इसका स्वाद एकदम असली अंडे जैसा है. एक दूसरे दल ने जैविक तौर पर घुलनशील कार्डियक स्टेंट का प्रदर्शन किया, जिसका इस्तेमाल धमनी की रुकावट दूर करने के लिए किया जाता है. धातु के स्टेंट के विपरीत ये पांच साल में शरीर के अंदर ही गल जाते हैं.

इसे भी पढ़ेंः देवेश, राज, अमित, सुशील, सुमित, दीपक, मंटू समेत कई ने बताया झारखंड की बदहाली के लिए जिम्मेदार कौन?

दर्शकों ने भारतीय सैनिकों के लिए तैयार की गयी एक बुलेटप्रूफ जैकेट को भी काफी पसंद किया, जो अभी इस्तेमाल की जा रही जैकेट के मुकाबले 30 प्रतिशत हल्की है.

इस वार्षिक कार्यक्रम के उद्घाटन सत्र में प्रमुख कारोबारी, शोध समुदाय के लोग, फिनलैंड और जापान के प्रतिनिधि और भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, दिल्ली के लोग शामिल हुए. इस प्रदर्शनी में आईआईटी दिल्ली के पूर्व छात्र भी शामिल हुए, जिन्होंने नवाचार आधारित अर्थव्यवस्था में निवेश की जरूरत पर जोर दिया.

इस मौके पर नीति आयोग के सदस्य वी के पॉल ने कहा, “भारत की स्वाभाविक प्रगति हमारे द्वारा खोजे गए और समझे गए विज्ञान पर, हम जो प्रौद्योगिकी सृजित और विनिर्मित कर सकते हैं, उस पर और हमारे लोग जिन उत्पादों का इस्तेमाल करते हैं, उन पर निर्भर है. इसके लिए नवाचार जरूरी है.”

इसे भी पढ़ेंः #ElectionCommission ने हरियाणा-महाराष्ट्र में विस चुनाव का किया ऐलान, 21 अक्टूबर को वोटिंग, 24 को काउंटिंग

WH MART 1

पॉल ने चिकित्सा उपकरण बाजार का उदाहरण दिया, भारत में इस समय जिसका बाजार सात से आठ अरब डॉलर का है.

उन्होंने कहा कि इस मांग का 75 प्रतिशत हिस्सा आयात से पूरा होता है. हालांकि भारत की प्रतिभा और क्षमता को देखते हुए ये बाजार 50 अरब डॉलर का हो सकता है और इस लक्ष्य को सिर्फ नवाचार से ही हासिल किया जा सकता है.

आईआईटी दिल्ली के निदेशक व रामगोपाल राव ने कहा कि शैक्षणिक समुदाय की भूमिका पहले शिक्षा तक सीमित थी, जो अब बदल गयी है.

उद्योग दिवस के दौरान संस्थान के शोध छात्रों के लिए रोजगार सत्र का आयोजन भी किया गया, जिसमें 17 कंपनियों ने 70 से अधिक छात्रों का साक्षात्कार लिया.

इसे भी पढ़ेंः महबूबा की बेटी ने पूछाः #PM अपनी मां से मिल सकते हैं, हम क्यों नहीं

 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

kohinoor_add

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like