न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

मी टू इफैक्टः IFTDA ने साजिद खान को एक साल के लिए किया निलंबित

34

New Delhi: मी टू कैंपेन ने कई जानी-मानी हस्तियों पर सवाल खड़े किये. कई फिल्मकारों और एक्टर्स को फिल्म छोड़नी पड़ी, तो कुछ राजनेताओं को पद ही गंवाना पड़ा. इस मी टू कैंपेन के तहत नाम आने पर पहले जहां फिल्मकार साजिद खान को हाउसफुल 4 से हाथ धोना पड़ा, वही अब उनपर एक और गाज गिरी है. इंडियन फिल्म एंड टेलीविजन डायरेक्टर एसोसिएशन ने साजिद को एक साल के लिए निलंबित कर दिया है.

खबर है कि, साजिद खान अब वे इंडियन फिल्म एंड टेलीविजन डायरेक्टर एसोसिएशन का हिस्सा नहीं रह गए हैं. यौन शोषण के आरोपों में घिरे साजिद खान को आईएफटीडीए से एक साल के लिए निलंबित कर दिया गया है. आईएफटीडीए की 7 दिसंबर 2018 की पीओएसएच इनवेस्टिगेशन क्लोजर रिपोर्ट के मुताबिक, साजिग साजिद खान की सदस्यता को एक साल के लिए तुरंत प्रभाव से सस्पेंड कर दिया गया है. इसकी एक कॉपी साजिद खान को मंगलवार शाम भेजी जा चुकी है. इंडियन फिल्म ऐंड टेलीविजन डायरेक्टर की प्रवक्ता ने जानकारी दी कि #MeToo से जुड़ी जांच कर रही IFTDA की ICC कमिटी ने साजिद खान को फिलहाल एक साल के लिए निलंबित किया गया है.

कई महिलाओं ने लगाए आरोप

गौरतलब है कि सजिद खान पर अभिनेत्री सलोनी चोपड़ा और सिमरन सूरी और अहाना कुमरा सहित कई और महिलाओं ने यौन शोषण का आरोप लगाया था. हालांकि, साजिद खान ने इस आरोपों से इनकार करते हुए खुद को निर्दोष बताया था. बता दें कि मी टू कैंपेन में नाम आने के बाद से ही साजिद खान मुश्किलों में हैं और उन्हें हाउसफुल 4 छोड़नी पड़ी थी.

तनुश्री दत्ता ने की थी शुरुआत

उल्लेखनीय है कि अभिनेत्री तनुश्री दत्ता अभिनेता नाना पाटेकर सहित कई फिल्म कलाकारों पर यौन शोषण के आरोप लगाए थे. जिसके बाद भारत में मी टू का मुद्दा उठा, और देखते ही देखते इसने तूल पकड़ लिया. इसके बाद कई महिला कलाकारों, पत्रकारों ने भी अपनी आपबीती सुनाई.

इस अभियान के तहत अलोक नाथ, सुभाष कपूर, कैलाश खेर, अभिजीत भट्टाचार्य, रजत कपूर, सुभाष घई, साजिद खान, विकास बहल, मुकेश छाबड़ा, पियूष मिश्रा, शाम कौशल, चेतन भगत, विनोद दुआ, अनु मलिक, रोहित रॉय, रघु दीक्षित, वरुण ग्रोवर, विवेक अग्निहोत्री, गौरांग दोशी, सुहैल सेठ सहित तमाम और लोगों के नाम सामने आये. वही केंद्र में मंत्री रहे एमजे अकबर का नाम भी इस मामले में सामने आया, जिसके बाद उन्हें इस्तीफा देना पड़ा था.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like

you're currently offline

%d bloggers like this: